blogid : 13187 postid : 855425

तीन रुबाईयां

Posted On: 23 Feb, 2015 Others में

Man ki laharenJust another weblog

अरुण

593 Posts

120 Comments

रुबाई
******
ज़रूरत को सयाना ठीक से परखे
ज़रूरी जानकारी को टिकी रख्खे
निरा मूरख पढत-पंडित गलत दोनों
गिरे कोई तो कोई ज्ञान को लटके
– अरुण
रुबाई
******
दुनिया में नही होती कुई बात कभी पूरी
दिन रात जुड़े इतने …..छूटी न कहीं दूरी
हर रंग दूसरे से कहीं ज़्यादा कहीं फीका
इंसा ना समझ पाए क़ुदरत की समझ पूरी
– अरुण
रुबाई
******
यह जगत टूटा हुआ तो है नही…..”लगता” ज़रूर
और फिर आते निकल.. ….स्वार्थ भय ईर्षा ग़रूर
इसतरह मायानगर आता नज़र.. ….बनता बवाल
“लगना” ऐसा जो निहारे….जगत उसका शांतिरूप
– अरुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग