blogid : 13187 postid : 838204

रुबाई

Posted On: 19 Jan, 2015 Others में

Man ki laharenJust another weblog

अरुण

593 Posts

120 Comments

रुबाई
********
सतह पे लहरें हैं, …..हैं संघर्ष के स्वर
संथतल पर शांतिमय एकांत का स्वर
सतह-तल दोनों जगह ….चैतन्यधारा
सतह..लहरें..संथतल सब एक ही स्वर
-अरुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग