blogid : 8115 postid : 803517

कांग्रेस अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए अपनी विरासत का सहारा ले रही है

Posted On: 14 Nov, 2014 Others में

aarthik asmanta ke khilaf ek aawajLOKTANTR

ashokkumardubey

166 Posts

493 Comments

पिछली लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की करारी हार कांग्रेस आला कमान और उनके सिपहसालारों को निराशा की ओर धकेल रही है और उसी हताशा निराशा में कांग्रेस बजाये अपनी पार्टी में जान फूकने के तरह तरह की बेजा बातों का सहारा ले रही है .प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाये जा रहे स्वक्षता अभियान को कांग्रेसी नाटक करार दे रहें हैं और चुकी मोदी जी ने अपना यह स्वक्ष भारत का अभियान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जनम दिन २ अक्टूबर को आरम्भ किया है ,कांग्रेसियों को ऐसा लगता है मोदी ने महत्मा गांधी को बी जे पी का नेता मान लिया बी जे पी द्वारा उनके महान नेता जैसे छीने जा रहें हों और कुछ वैसा ही हुवा गत ३१ अक्टूबर को, दुर्भाग्य वश वह तारीख दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सहादत का दिवस भी है ३१ अक्टूबर १९८४ को ही इंदिरा गांधी की हत्या उनके रक्षा गार्डों ने कर दी थी ,जब तक कांग्रेस सत्ता में थी तब तक सरदार बल्लभ भाई पटेल का जनम दिन ३१ अक्टूबर को है ऐसा कांग्रेसियों को कभी याद नहीं रहा , लेकिन जैसे ही पटेल जैसे महान नेता का जनम दिन मोदी जी ने भब्य रूप से मनाने का कार्यकर्म बनाया कांग्रेसियों को लगा की बी जे पी उनके पुराने नेताओं पर कब्ज़ा बनाकर उन्हें अपना कहने का प्रयास कर रही हैं .कांग्रेस पार्टी के इन दिमागी दिवालिये नेताओं को कभी यह ख्याल नहीं आया की बेशक पंडित नेहरू और सरदार पटेल कांग्रेस पार्टी के ही नेता थे पर वे केवल पार्टी के नेता न होकर पूरे देश की जनता के नेता थे और उनके दिलों में जनता के प्रति सहानुभूति रहती थी वे देश की जनता को सर्वोपरि मानते थे और जनता की आजादी और खुशहाली के लिए जिए मरे थे उन महान नेताओं ने देश की गरीब जनता के पैसों के घोटाले नहीं किये थे देश को आर्थिक दिवालिये पन की ओर नहीं धकेला था . क्या ?
आज का कांग्रेसी अपने को जनता का नेता कहलाने का हक़ रखता है कांग्रेसी नेता आज कितने हैं जो जनता से जुड़े हुए हैं इसका आत्म मंथन वे खुद कर लें
अगर कांग्रेसी आत्म मंथन करेंगे और अपने नेतृत्व में परिवर्तन लाएंगे पार्टी को किसी एक परिवार की जागीर बनने देने से रोकेंगे ,पार्टी की कमान किसी अनुभवी ईमानदार नेता के हाथों सौपेंगे तो जरूर कांग्रेस फिर से जनता में लोकप्रिय हो पाएगी और आज समय यह आया है की देश में कोई मजबूत विपक्ष नहीं है कांग्रेस को चाहिए जनता से जुड़े जनता का रुका काम कराये जहाँ जनता बुनियादी जरूरतों के लिए भी महरूम है वहां उसके कार्यकर्त्ता जाकर विभागों से अफसरों पर दबाव बनाकर उनसे कहकर जनता का काम कराएं और, फिर इसके बाद अगले लोकसभा चुनाव में अपने काम के बल बूते पर जनता से वोट मांगे तभी कांग्रेस पार्टी देश में बच पाएगी वार्ना धीरे – धीरे जिन राज्यों में कांग्रेस सरकार में है उन राज्यों से भी कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो जायेगा. कांग्रेस को फ़ौरन राहुल गांधी को उपाधयक्ष पद से हटाकर एक सामान्य कार्य करता की तरह ५ साल काम करने को कहना चाहिए राहुल गांधी को अपने चुनाव क्षेत्र अमेठी की जनता के बीच घूमना चाहिए उसको आदर्श गाँव बनाने का काम करना चाहिए और इसी तरह देश के अन्य क्षेत्रों में भी जहाँ जहाँ कांग्रेस पार्टी सत्ता में है वहां उनके नेता जनता का कितना काम कर रहें हैं इसका जायजा लेना चाहिए राहुल गांधी को अभी अनुभव की कमी है . राजनीती में केवल कुछ साल
गुजार लेने भर से कोई देश का नेता नहीं बन जाता , पहले उसको एक कुशल कार्यकर्त्ता बनना पड़ता है .आज नरेंद्र मोदी की सफलता का राज एक ही है की उन्होंने समपरण भाव से पार्टी के लिए वर्षों काम किया है वे संघ के एक समर्पित और जुझारू कार्य कार्यकर्त्ता रहें हैं इस सत्य को देश की पूरी जनता आज जान गयी है राहुल और सोनिया के पास ऐसा बताने के लिए क्या है . केवल और केवल दिवंगत नेताओं (और उनमें भी अपने परिवार) का नाम लेकर ही कांग्रेस देश पर राज करना चाहती है और मात्र सत्ता में बने रहने के लिए सिद्धांतों से समझौता करती रही है . जो नेता केवल मंत्री पद पाने और पद पाकर लूट मचाने घोटाले करने का काम ही करते हैं उन्हीं भ्रष्ट नेताओं को ही अपने साथ लेकर देश को बर्बादी के कगार पर ले जाती रही है सरकार बचने के लिए किसी पार्टी से भी गठबंधन करती रही है सजाये आफ्ता नेताओं को मंत्री बनाती रही है कांग्रेस को कभी इस सच्चाई को समझना होगा . आज देश में क्या हो रहा है? .जमा मस्जिद के बुखारी साहब अपने कार्यकर्म में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को न्योता भेज रहें हैं और देश के प्रधानमंत्री मोदी जी को बुलाने में गुरेज कर रहें हैं उनके लिए धर्म निरपेक्षता की परिभाषा यही है . सोनिया जी नेहरू जी की जन्म शताब्दी पर देश के प्रधानमंत्री को न्योता भेजने में शर्मा रहीं हैं उनको शायद यह ज्ञात नहीं की मोदी आज केवल बी जे पी के नेता ही नहीं हैं मोदी आज पूरे देश के मुखिया हैं प्रधानमंत्री हैं और कांग्रेस पार्टी यह भी देख रही है मोदी जी को अपने देश क्या विदेशों में कितना सम्मान मिल रहा है आज श्री नरेंद्र भाई मोदी अंतर- राष्ट्रिय नेता के रूप में अपनी पहचान बनाने में सफल हो रहें हैं अगर कांग्रेस पार्टी ऐसी ही गलतिया करती रही तो वह दिन दूर नहीं जब मोदी का सपना पूरा होकर रहेगा “कांग्रेस मुक्त भारत का ” देश कांग्रेस मुक्त बन जायेगा .कांग्रेसियों जरा सोंचो !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग