blogid : 2257 postid : 53

वो हमें जान न पाए

Posted On: 29 Jun, 2010 Others में

मंजिल की ओरमैं और मेरा देश

Ashutosh Ambar

21 Posts

3 Comments

pic00041

लाख दिल अपना खोल के दिखाते रहे
हरदम उनको ही अपना बताते रहे
मगर दो लब्ज भी हमसे वो कह न पाए
वे हमें जान न पाए

हर ख्वाब में उन्हें ही सजाते रहे
रात – रात भर खुद को जगाते रहे
कभी वे अपनी आँखे नम कर न पाए
वे हमें जान न पाए

उनकी चाहत में आँखे बरसती रहीं
दिल ये रोता रहा सांस अटकती रही
पर फिर भी सहारा हमें दे न पाए
वे हमें जान न पाए

खुद को जलाकर, रोशन उन्हें हम करते रहे
कभी भीगते रहे कभी तपते रहे
जालीम जमाने से वो लड़ न पाए
वे हमें जान न पाए

आवाज दे – दे कर उनको बुलाते रहे
हम रोते रहे वे मुस्कुराते रहे
चाहत का उनको एहसास करा न पाए
वे हमें जान न पाए

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग