blogid : 26982 postid : 4

महामृत्युंजय मंत्र

Posted On: 31 May, 2019 Spiritual में

mahamrityunjaya mantraJust another Jagranjunction Blogs Sites site

ashwni

2 Posts

1 Comment

महामृत्युंजय मंत्र (महामृत्युञ्जय मन्त्र) – यह एक बहुत ही अद्भुत मंत्र है जिस के निर्माता या सृजन करता स्वयं भगवन शिव हैं। ओम त्र्यंबकम यजामहे को महामृत्युंजय मंत्र के रूप में भी संदर्भित किया जाता है, ऋग्वेद का एक छंद है।

इस मंत्र के जाप के अनेकों लाभ हैं। मंत्र के जाप से आप भगवान शिव को प्रसन्न करके अपना मनवांछित फल की प्राप्ति कर सकते हैं।

हम आपको मंत्र की पूरी जानकारी तथा इसे जपने के सही तरीके की विधि बताएँगे ताकि आपके जीवन में भी सुख शांति बानी रहे एवं सभी दुखों तथा कष्टों का निवारण हो। बोलो महा देव शिव शम्भो भोले नाथ की जय।

इसे रुद्र मंत्र के रूप में भी जाना जाता है जो भगवान शिव और उनके त्र्यंबकम (तीसरे नेत्र का अर्थ है) के उग्र पहलू से संबंधित है। तीसरी आंख दो भौंहों के बीच एक आध्यात्मिक रूप से जागरण द्वारा अनुभव की जाती है।

कभी-कभी यह मंत्र संजीवनी मंत्र का उल्लेख करता है क्योंकि यह हमारे शरीर और दिमाग को ठीक करने में सक्षम है। तो यह मंत्र को बहाल करने वाला एक जीवन है, जो अभ्यास करते हैं वे आध्यात्मिक रूप से स्पष्ट मन प्राप्त करते हैं।

शिव के हिंदू धर्म के लोग मानते हैं कि शिव मनुष्य के भीतर रहते हैं। और इस मंत्र के मंत्र से वे हमें ठीक करते हैं।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग