blogid : 1151 postid : 460

कविताओं से डर लगता है|

Posted On: 2 Oct, 2011 Others में

मनोज कुमार सिँह 'मयंक'राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

atharvavedamanoj

76 Posts

1140 Comments

गहन निशा है, बुझे दीप हैं,

विषधर पांवों में डंसता है|

और पास ही महफ़िल सजती,

कविताओं से डर लगता है|

भूख बिलखते बच्चे माँ की छाती से जब भी लगते हैं|

किसी हरामी की आँखों में यौवन के सपने पलते हैं|

महफ़िल में गजलों का गाना, कानों में बम सा फटता है|

और पास ही महफ़िल सजती,

कविताओं से डर लगता है|

लम्पट अधरों ने मांत्रिक के अस्फुट अधरों को कब जाना?

मेरा सारा रोना, गाना, भैंस के आगे बीन बजाना|

संस्कृति की मातमपुर्सी पर देखो शहनाई बजता है|

और पास ही महफ़िल सजती,

कविताओं से डर लगता है|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग