blogid : 1151 postid : 154

कहीँ तुम्हारा ग्रंथ जले

Posted On: 15 Sep, 2010 Others में

मनोज कुमार सिँह 'मयंक'राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

atharvavedamanoj

76 Posts

1140 Comments

कहीँ तुम्हारा ग्रंथ जले और कहीँ फूँक दो तुम सिँहासन।
किससे जाकर कहेँ राजगद्दी पर बैठा भ्रष्ट दुःशासन॥

कागज के जलने से बढ़कर निन्दित रक्त प्रवाह नहीँ है?
उनको क्या बतलाये जिनको मानवता की चाह नहीँ है॥
माना ग्रंथ जलाना निन्दित किँतु तेरा अभिनन्दन क्योँ हो?
जब सब कुछ ही खण्डन लायक, फिर महिमा मण्डन ही क्योँ हो?
क्या हमको भी तक्षशिला और नालन्दा की याद नहीँ है?
अथवा अलक्षेन्द्र ग्रंथालय की कोई परवाह नहीँ है?

किँतु कहाँ से सीखा तुमने तेरा ग्रंथ नहीँ बतलाता।
जो खुद को पापी कहता है, वह क्योँकर हो पाप सिखाता॥
क्षमा,दया,करुणा ही हमको नत कर देती जीसस बन्दे।M_Id_165872_Kashmir_violence
किँतु बताओ हमेँ कहाँ से आग लगाना सीखा तुमने?
जिसने तेरी पोथी फूँकी वह पापी सचमुच पापी है।
लेकिन इस पर रक्त बहाने वाला तू भी अपराधी है।
मैँ भी अपराधी हूँ क्योँकि मैँने जो जाना समझा है।
बिना किसी भय पक्षपात के जनता के सम्मुख रक्खा है।ॐ

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग