blogid : 1151 postid : 425

चंद सवालात

Posted On: 11 Jul, 2011 Others में

मनोज कुमार सिँह 'मयंक'राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

atharvavedamanoj

76 Posts

1140 Comments

एक पुरुष ने जाने कितने महानरों को निगल लिया|

कभी सत्य पर चला नहीं जो सत्याग्रह का नाम लिया||

अब बसंत के गीत सुनाना पौरुष को मंजूर नहीं|

माँगे सुनी हुई हाय, अब इज्जत है सिन्दूर नहीं||

श्रृंगार आज अस्पृश्य हुआ, नंगापन पूजा जाता है|

सौ सौ मछली खाकर बगुला, बगुला भगत कहाता है||

कोई कहता ओसामा जी और कोई ओबामा जी|

लोकतंत्र के बाजारों में बिकती है सब्जी भाजी||

आतंकी का चारण बनकर राजनीती नतमस्तक है|

कालनेमि के हांथो में भगवद्गीता की पुस्तक है||

रामचरितमानस को जो पानी पी पी गरियाता है|

इंटेलेक्चुअल उम्दा सबसे भारत में कहलाता है||

यहाँ खून सस्ता बिकता, आँखों का कोई मोल नहीं|

उनको ही पूजा जाता है जिनका कोई रोल नहीं||

कुछ अध्यात्मिक शब्दों को जागीर बना कर बैठे हैं|

सत्य, अहिंसा सोने की जंजीर बना कर बैठे हैं||

उलटी सीधी परिभाषा गढ़ने वाला यह खादी है|

प्रश्नचिंह पर प्रश्न उठता हूँ बोलो आजादी है?

क्यों गाँधी का ग्रहण लगा है नेताजी के सपनों में?

सावरकर, आजाद, तिलक और मालवीय से अपनों में||

सूत कातने से शोषण से मुक्ति नहीं मिल सकती है|

भ्रामक प्रचार करने वालों यूँ नहीं दासता मिटती है||

यूँ ही अनुनय करने से, हाँ, कोई अधिकार नहीं देता|

फूल नहीं देता है जो सुन लो तलवार नहीं देता||

सावरकर, नेताजी जैसों ने जब खून बहाया है|

महाकाल के जबड़े से फलरूप आजादी पाया है||

और उसका सौदा करने वालों ने उसको काट दिया|

हाय हमारी भारत माता टुकड़े टुकड़े बाँट दिया||

हर टुकड़े पर अलग अलग टुकड़े की मांग उठाते हैं|

खंडित, खंड खंड करते हम खुद से बटते जाते हैं||

गैर कोई आता भारत का अधिनायक बन जाता है|

जन गण मन अधिनायक कह कर भारत शीश झुकता है||

पोप मरे तो मरे हमारा परचम क्यों झुक जाता है?

एक विदेशी के मरने पर भारत शोक मनाता है||

क्यों अब भी भारत माता भारत में क्रंदन करती हैं?

एक भिखारिन बनी हुई सबका अभिनन्दन करती हैं||

चीन सुरक्षा परिषद में हमको आँखे दिखलाता है|

ताल ठोंक कर पाक हमारी सीमा में घुस आता है||

कुछ आतंकी संप्रभुता को चिंदी चिंदी कर देते|

हम दानवी हितों की खातिर उनकी अगवानी करते||

क्यों प्रत्यर्पण पर एक छोटा देश हमें उलझाता है?

<

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग