blogid : 1151 postid : 379

सावधान अब मृत्यु निकट है

Posted On: 8 Jan, 2011 Others में

मनोज कुमार सिँह 'मयंक'राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

atharvavedamanoj

76 Posts

1140 Comments

फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

मंदिर जैसे श्राप हो गया,

ध्वज फहराना पाप हो गया |

” हर  एक हिंदू आतंकी है ”

यह  नारायण जाप  हो गया |
आरक्षण की लौह श्रृंखला में बंदी संगम का तट है |

फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

जिसने रक्त पिलाकर पाला,

देह जलाकर किया उजाला |

इंद्रप्रस्थ के सिंहासन ने

उसपर आज हलाहल डाला |

सीमा के इस ओर प्रलय को आमंत्रण गुपचुप, खटपट है|

फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

सूरज की किरणों को गाली,

ग्रसने को आतुर है लाली

राहू केतु ने मुंह फैलाया

संग शक्तियां काली काली|

रोज नया नाटक रचता है, यह कैसा मायावी नट है ?

फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

जमी हुई है तट पर काई,

तलछट में फैली चिकनाई|

हुआ प्रदूषित पूर्ण सरोवर,

पुण्य माघ की बेला आई |
चाहे जितना गंदला हो जल, डुबकी को आतुर जमघट है |
फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

जनहठ पर नृपहठ है भारी,

निर्वाचित होते व्यापारी |

हुई निरर्थक राष्ट्र चेतना,

भूखी, नंगी जनता सारी |
पापगान में गम कान्हा का सामगान और वंशीवट है |
फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

जिसने कूल्हों को मटकाया |

कोटि कोटि पण उसने पाया |

वही राजनेता है भारी –

जिसने जनता को भटकाया |

इसे हिला भी नहीं सकेंगे, जमा हुआ अंगद का पग है |
फिर संकट घनघोर विकट है, सावधान अब मृत्यु निकट है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग