blogid : 724 postid : 290

बुढ्ढों का इश्क

Posted On: 28 Mar, 2011 Others में

Jagran AudioJust another weblog

Jagran Audio Blog

69 Posts

27 Comments

यह इश्क है जो बूढ़े को भी जवान बना सकता है. अब इश्किया में खालू जान को ही देख लीजिए बालों को रंगा-रंगा के भी कृष्णा को अपना दिल दे बैठे. बुद्धू यह नहीं जानते थे कि खालू का भांजा बब्बन भी कृष्णा के पीछे है. लेकिन कृष्णा तो निकली सबसे सयानी दोनों का उल्लू काट दिया उसने और बब्बन को कहने को मजबूर कर दिया कि.

 

“तुम्हारा इश्क …इश्क और हमारा इश्क इश्किया”

 

यह बुढ्ढे भी उम्र के साथ-साथ बेवकूफ हो जाते हैं. कहते हैं कि जवान क्या इश्क करते हैं, इश्क तो बुढ्ढे करते हैं, उन पर हम मरते हैं, दिलों जान से प्यार करते हैं. लेकिन जनाब, कोई इन्हें समझाए कि इश्क बुढ्ढों के करने की चीज़ नहीं, तीर गलत लग जाए तो दर्द दिल को होता है.

[audio:https://www.jagranjunction.com/audio/wp-content/uploads/sites/724/2011/03/Dil-Toh-Baccha-Hai.mp3|titles=Dil Toh Baccha Hai]
ऑडियो में सुनिए बुढ्ढों का इश्क

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग