blogid : 1004 postid : 303

इसे मौत नहीं जागृति कहते हैं : मैं कभी नहीं मर सकती (कविता)

Posted On: 30 Dec, 2012 Others में

अविनाश वाचस्‍पतिविचारों की स्‍वतंत्र आग ही है ब्‍लॉग

अविनाश वाचस्‍पति अन्‍नाभाई

101 Posts

218 Comments

मैं कहीं नहीं गई
मैं कभी नहीं मरी
मैं कभी नहीं मर सकती
देखो किसके दिल में नहीं हूँ
किसके मानस में नहीं बसेरा मेरा
इसे मौत नहीं जागृति कहते हैं
वही सच्चे इंसान होते हैं
मानते हैं सबको अपनी बेटियां
रिश्ते नहीं करते तार तार
मिलते ही नहीं मानते हैं बहनें
मर जाते हैं, मिट जाते हैं
रक्षा में, सुरक्षा में
बदल डालेंगे अब व्यवस्था की विकृतियां
विसंगतियां कन्या जन्म की
भ्रूण हत्या, दहेज, स्त्री को कमतरी का अहसास
समाज में व्याप्त ऐसी सभी बुराइयां, बेइमानियां
सबको इस निर्भीकता के साथ मिटाना होगा
अवसर न दोबारा मिलेगा, न इंतजार करना होगा
चल रही लड़ाई में शामिल होना होगा
मौका मिलेगा न दोबारा
आओ इस जोर जुल्म से टकराएं
इंसान को इससे मुक्ति दिलाने के बाद सांस लें
और अपराधियों को सांस न लेने दें ।

इसे मौत नहीं जागृति कहते हैं : मैं कभी नहीं मर सकती

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग