blogid : 1004 postid : 96

फोड़े फुंसियों की गाथा

Posted On: 9 Aug, 2011 Others में

अविनाश वाचस्‍पतिविचारों की स्‍वतंत्र आग ही है ब्‍लॉग

अविनाश वाचस्‍पति अन्‍नाभाई

101 Posts

218 Comments

फोड़े तरह तरह के

जो देते हैं दर्द

वही कहलाते बेदर्द

बेदर्दी से फोड़े की

क्‍यूं लगता है डर

मार इनकी गहरी

नहीं कोई देहरी

दर्द नहीं देते तो

फोड़े क्‍यों कहलाते हैं

फुंसियां फूट कर बनती फोड़ा

फोड़े की फुंसी क्‍यों नहीं बनती

कुछ फूटते हैं इस कदर

बन जाते हैं नासूर

उनका सुर समझते हैं

रोकने वाले डॉक्‍टर

और

भोगने वाला मरीज

फोड़े और फुंसियों का सुर

या कहें सिर

होता है बेसुरा

लेकिन जो पीता है सुरा

उसे किसी ने नहीं धरा

न उसका है आसमान

जमीन पर भी नहीं गिरा

फोड़े फुंसी होते हैं भाई बहन

पति पत्‍नी

प्रेमी प्रमिका

मालिक नौकर

दुकानदार खरीददार

या ……..

इतना तो आप ही बतलायें

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग