blogid : 17843 postid : 721200

=======कौन हूँ मैं=======

Posted On: 22 Mar, 2014 Others में

शब्द दूतव्यवस्था सड़ी हो तो भ्रष्टाचार पनपता है , अवस्था उघडी हो तो अनाचार पनपता है --- विनोद भगत

विनोद भगत

9 Posts

8 Comments

मौन हूँ मैं ,
निशब्द नहीं हूँ मैं ,
कौन हूँ मैं ,
प्रश्न यक्ष से खड़े हैं ,
उत्तर की तलाश में ,
एक नया प्रश्न जन्मता है ,
अर्थ बदलते शब्द ,
मौन हूँ मैं ,
निशब्द नहीं हूँ मैं ,
कौन हूँ मैं ,
हर नई सुबह एक नयी आशा ,
संध्या होने तक ,
पुनः सालती निराशा ,
थकी हुयी आकांक्षा ,
मौन हूँ मैं
निशब्द नहीं हूँ मैं ,
कौन हूँ मैं ,
कंक्रीट और पत्थर के जंगल में ,
पथराती हुयी संवेदना ,
हर पत्थर है नुकीला ,
काटता सम्बन्धों की डोर ,
मौन हूँ मैं
निशब्द नहीं हूँ मैं ,
कौन हूँ मैं ,
———विनोद भगत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग