blogid : 940 postid : 691232

दर्द-ए-दिल - Contest

Posted On: 21 Jan, 2014 Others में

BHAGWAN BABU 'SHAJAR'HAQIQAT

Bhagwan Babu

113 Posts

2174 Comments

मुझे दर्द-ए-दिल की वो दवा दे देते
जिन्दगी मेरी हो जाती दुआ दे देते

सोचता कहाँ हूँ और जाता कहाँ हूँ 
दीद-ए-मुक्कदर को शमा दे देते 

जल ही रहा हूँ न बुझ ही रहा हूँ 
मुझपे एक रहम की हवा दे देते 

वीरान राहों का तन्हा मैं राही हूँ 
दम-ए-आख़िरत इश्क़-ए-रहनुमा दे देते 

फ़रमान देने का बहुत शौक़ है उन्हें
मुझ दीवाने को शौक़-ए-सज़ा दे देते
 
कर लेगा “शजर” हर गुनाह-ए-क़ुबूल
अगर साथ मरने की वो जुबां दे देते

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग