blogid : 940 postid : 676625

मोहब्बत के अफसाने

Posted On: 26 Dec, 2013 Others में

BHAGWAN BABU 'SHAJAR'HAQIQAT

Bhagwan Babu

113 Posts

2174 Comments

मोहब्बत के अफसाने कम हो रहे है।
शहर में मज़हबी दंगे बहुत हो रहे है।।
.
धुली थी यहीं माँग बहू बेटियों की,
आज देखा वहाँ तो तिजारत हो रहे है।
.
किसकी थी आरज़ू ये फिक़्र उसका नही,
हसरतें कैसी भी हों मुक्कमल हो रहे है।
.
कल तक तो थी उनकी यहीं झोपड़ी,
किया ऐसा क्या जो वो महल हो रहे है।
.
दो पल भी भरोसा न होता किसी का,
मगर खड़े उनको यहाँ अज़ल हो रहे है।
.
अच्छी बातें न दिखती है नित होते हुए,
उनकी तो बस कहानी, ग़ज़ल हो रहे है।
.
बदल गये है जमाने देख ले ऐ “शजर”,
रग़बतें दिल से अब मुख्तसर हो रहे है।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग