blogid : 9484 postid : 671194

चिल्लर....

Posted On: 16 Dec, 2013 Others में

AnubhavJust another weblog

bhanuprakashsharma

207 Posts

745 Comments

वैसे तो अब चिल्लर की जरूरत कभी-कभार ही पड़ती है। जब लोग मंदिर जाते हैं तो भगवान को चिल्लर चढ़ाने से नहीं चूकते। हालांकि भले ही जुए में लाखों रुपये दांव पर लगा दें। मंदिर में चढ़ाने के लिए ऐसे लोग खुले पैसे ही तलाशते हैं। क्योंकि भगवान कुछ नहीं बोलते, ऐसे में उन्हें चिल्लर चढ़ाने में हर्ज ही क्या है। वहीं उसके उलट भिखारी को यदि एक का सिक्का दे दो, तो पलटकर वह कुछ न कुछ ताना जरूर मार देता है। भिखारी भी पांच या दस का नोट ले रहे हैं। चिल्लर की उन्हें भी जरूरत नहीं। छोटे बच्चे तो चिल्लर की तरफ देखते ही नहीं। उन्हें भी करारा दस, पचास या सो का नोट चाहिए। मुझे अपना बचपन याद है। मोहल्ले में कई दृष्टिहीन रहते थे। मैं उनके छोटे-छोटे काम को हमेशा तत्पर रहता। वे दुकान से मुझसे समान मंगाते। दस या बीस पैसे बचते तो मुझे ही दे देते। मैं भी लालच में उनकी सेवा को हमेशा तत्पर रहता। कभी कभार साल में एक दो बार हमारे एक दूर के चाचा देहरादून आते तो हमारे यहां भी जरूर आते। उनका नाम सोमदत्त था और वह मुजफ्फरनगर रहते थे। जब भी वह वापस लौटते तो मुझे दो के नोट की गड्डी से एक करारा नोट निकालकर देते। वही नोट मुझे ऐसा लगता कि कई दिन मेरी मौज बन जाएगी। आज दो रुपये यदि मैं अपने बच्चों को दूं तो वे पलटकर यही जवाब देंगे कि इसका क्या आएगा। चिप्स का पैकेट भी दस रुपये से कम नहीं है।
मुझे चिल्लर की जरूरत सिर्फ बिलों की अदायगी के लिए पड़ती है। टेलीफोन, बिजली, पानी के बिल के साथ ही नगर निगम का जब भी हाऊस टैक्स देना होता है तो चिल्लर की जरूरत जरूर पड़ती है। इन सरकारी डिपार्टमेंट वालों को चिल्लर से ना जाने क्या मोह है। किसी भी बिल में ऐसी रकम नहीं होती कि सीधे दस, पचास या सौ के नोट से काम चल सके। पांच, सात, आठ रुपये खुले चाहिए होते हैं। क्योंकि यदि चिल्लर नहीं हुई तो काउंटर में बैठा व्यक्ति खुले नहीं है कहकर वापस रकम नहीं नहीं लोटाता। बिल के पीछे बचे दो, तीन रुपये लिख देता है। अब दो-तीन रुपये के लेने लिए दोबारा कौन जाएगा। यह भी गारंटी नहीं कि अगले दिन उसी व्यक्ति की काउंटर में ड्यूटी हो। मेरे जैसे हर व्यक्ति से वह दो-दो रुपये बचाकर अपनी चाय-पानी का खर्च जरूर निकाल लेता है। भिखारी भी जिस चिल्लर को नहीं लेता, वे उसे वापस नहीं करते और यही चाहते हैं कि पैसे जमा कराने वाला चिल्लर वापस न मांगे।
नगर निगम से हाउस टैक्स का बिल आया। बिल की आदायगी के लिए मुझे 88 रुपये खुले चाहिए थे। मैं खुले पैसे के लिए सुबह-सुबह मोहल्ले के लाला के पास गया। लाला की लंबाई कुछ कम है, ऐसे में सभी मोहल्ले वालों ने उसका नाम गट्टू लाला रखा है। मैं लाला के पास गया और संकोच करते हुए मैने पांच सौ रुपये के खुले मांगे। मैने कहा कि ऐसे नोट देना, जिससे मैं नगर निगम में खुले 88 रुपये जमा करा सकूं। लाला ने सौ के चार नोट दिए और दो पचास के। साथ ही बोला कि नगर निगम में आपको खुले पैसों की परेशानी नहीं होगी। वहां कैश काउंटर में बैठने वाला व्यक्ति काफी ईमानदार है। वह व्यक्ति का एक रुपये तक नहीं रखता। उसके पास हमेशा खुले पैसे होते हैं। मैने कहा यदि नहीं हुए तो उसे भी परेशानी होगी और मुझे भी। मैने घर में बच्चों की गुल्लक टटोली और उससे 38 रुपये का जुगाड़ किया। अब मेरे पास बिल के खुले पैसे थे, ऐसे में मुझे कोई टेंशन नहीं थी।
दस बजे निर्धारित समय पर मैं निगम पहुंच गया, लेकिन वहां कर्मचारी कुर्सी पर नहीं दिखे। सभी सुबह की ठंड को दूर करने के लिए धूप सेंकने में मशगूल थे। करीब पौन घंटे बाद कर्मचारी कुर्सी पर बैठे। मुझसे पहले दो-तीन लोगों का नंबर था। कैश काउंटर में बैठा व्यक्ति मुझे वैसा ही मिला, जैसा कि लाला ने बताया था। सुबह-सुबह उसके पास भी ज्यादा खुले नोट नहीं थे। लोग बड़े नोट लेकर आए थे। वह अपनी पैंट की जेब, पर्स, तिजोरी सभी को टटोलकर लोगों को चिल्लर लौटा रहा था। मेरा जब नंबर आया तो उसने कहा कि खुले पैसे हों तो अच्छा रहेगा। मैने उसे सौ के पांच नौट के साथ ही खुले 88 रुपये दिए। वह खुश हो गया। उसने कहा कि अब कुछ और लोगों को भी वह चिल्लर लौटा सकेगा।
भानु बंगवाल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग