blogid : 9484 postid : 175

सौ में सत्तर आदमी जब तक ....

Posted On: 15 Aug, 2012 Others में

AnubhavJust another weblog

bhanuprakashsharma

207 Posts

745 Comments

नई उमंग व नई तरंग लेकर 15 अगस्त की सुबह आई। लगातार कुछ दिन से दून में बारिश हो रही थी। इस दिन सुबह आसमान साफ थे। किसी कोने पर एक-आध बादल के छोटे टुकड़े देखकर लग रहा था कि दिन भर बारिश शायद ही हो। भारत की आजादी का दिन। कई दशकों तक अंग्रेजों के गुलाम रहने के बाद इस दिन ही हम आजाद हुए। ऐसे में इस दिन का महत्व भी प्रत्येक नागरिक के लिए बढ़ जाता है। मेरे लिए छुट्टी का दिन। फिर भी मेरी नींद कुछ जल्द ही खुल गई। टीवी आन किया तो जो भी चेनल लगाया, वहां देशभक्ति गीत ही सुनाई दिए। किसी चेनल में जहां डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, तो किसी में मेरे देश की धरती सोना उगले, तो किसी में कुछ और बजाया और सुनाया जा रहा था।
सचमुच कितना आनंद है इस दिन में। कामकाजी इसलिए खुश हैं कि दफ्तरों की छुट्टी होती है, वहीं बच्चे इसलिए खुश होते हैं कि अधिकांश स्कूल नहीं जाते। ये अलग बात है कि जब मैं छटी जमात में था तो इस दिन स्कूल न जाने पर अगले दिन सुबह प्रार्थना के समय सभी बच्चों को सजा के तौर पर मुर्गा बना दिया गया था। फिर भी हर कोई आजाद है। जहां तक हम दूसरों की आजादी को बाधित नहीं करते, वहां तक तो हम आजाद ही हैं। हरएक को अपनी बात कहने की आजादी है। आंदोलन की आजादी। राजनीति में आने की आजादी। तभी तो बाबा रामदेव व अन्ना हजारे आजादी के आंदोलन से प्रेरित होकर बार-बार धरने व भूख हड़ताल पर बैठ जाते हैं। अब टीम अन्ना देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए राजनीतिक दल बनाएगी। फिर चुनाव लड़ेगी। यदि जीत गई तो देश का कायापलट कर देगी। उसे ऐसा करने से किसी ने नहीं रोका है, क्योंकि देश आजाद है। वहीं मतदाता भी अपनी पसंद की सरकार बनाने को आजाद है। भले ही हकीकत में वे सरकार बनाने के बाद एक-दूसरे को कोसते हैं कि हर बार गलत लोग ही चुने जाते हैं। बचपन में मैं घर के आंगन में तिरंगा फहराता था। तब इस लोकतांत्रिक देश में झंडे जी की जय बोलो, डंडे जी की जय बोलो के साथ ही सांस रोककर खड़े-खड़े मुझे अधिनायक की जय बोलना भी अच्छा लगता था। अब झंडा तो नहीं फहराता, लेकिन मन में इसके प्रति सम्मान जरूर है।
आजादी का पर्व सभी अपने-अपने अंदाज से मनाते हैं। समाचार पत्रों के कार्यालयों में भी छुट्टी होने की वजह से मेरे कई पत्रकार मित्र तो इस दिन पूरे आजाद नजर आते हैं। कहीं पिकनिक प्लान की जाती है। शराब की दुकाने बंद रहती हैं, तो एक दिन पहले से ही जुगाड़ कर लिया जाता है। इस दिन वे भी पीने की आजादी मनाते हैं। खैर जो भी हो, जिस गली या मोहल्ले में निकल जाओ, वहां का वातावरण देशभक्तिमय नजर आता है। सड़क पर भीड़ नहीं रहेगी, यह सोचकर मैं भी बेटे की साइकिल उठाकर घर से शहर की परिक्रमा को निकल पड़ा। बीस साल बाद साइकिल में हाथ लगाने पर शुरुआत में मैं डरा भी, लेकिन फिर मुझे लगा कि जैसे रोज चलाता हूं। घर से कुछ आगे मंदिर के प्रागंण पर भी ध्वजारोहण की तैयारी चल रही थी। विधायकजी ने आना था। वहां भी डाल-डाल पर सोने की चिड़िया… का रिकार्ड बज रहा था। अब घर मैं गौरेया तक दिखाई नहीं देती, सोने की चिड़िया तो दूर की बात हो गई। आगे एक स्कूल के प्रांगण में सांस्कृतिक कार्यक्रम चल रहे थे। बालक व बालिकाएं देशभक्ति गीत पर नृत्यकर रहे थे। बेचारी मासूम बालिकाएं सचमुच कितनी आजाद नजर आईं। वह भी आजादी का जश्न मना रही हैं। भले ही घर जाकर उसे भाई की अपेक्षा कम महत्व दिया जाता है। कई का घर में चोका व बर्तन इंतजार कर रहे होते हैं। अब तो माता-पिता भी मनचाही औलाद के लिए आजाद नजर आते हैं। गर्भ में ही बालिका की हत्या कर दी जाती है। फिर भी इस दिन तो सारा देश मस्त है। झूम रहा है। आजादी का जश्न मना रहा है। ऐसा मुझे सुबह से ही प्रतीत हो रहा था। हर स्कूल, सरकारी कार्यालय विशेष रूप से सजाए गए।
घर-घर में टेलीविजन व रेडियो या फिर डेक पर देशभक्ति गीत सुनाई देने से मैं प्रफुल्लित हो रहा था। एक घर के बगल से जब मैं गुजरा तो वहां स्टीरियो में जो गीत बज रहा था, उसे सुनकर मैं चौंक पड़ा। गीत के बोल थे-सौ में सत्तर आदमी….
इस गीत को सुनकर मैं समझ गया कि यह किसी कामरेड का घर है। कामरेड ही विपरीत धारा में तैरने का प्रयास करते हैं। आज के दिन इस गीत को बजाकर वह अलग तरीके से आजादी के मायने तलाश रहा था। मैं देहरादून का दिल कहे जाने वाले शहर के केंद्र बिंदु घंटाघर तक पहुंच गया। यहां तक पहुंचने में मुझे कहीं बच्चों की प्रभातफेरी नजर आई, तो कहीं हाथ में झंडियां लेकर स्कूल जाते बच्चे। कहीं सफेद, लाल, हरे या नीले बार्डर की साड़ी से लिपटी स्कूलों की शिक्षिकाएं। मानों वही साक्षात भारत माता हों। उत्साह, उमंग और तरंग से ओतप्रोत बच्चे। रास्ते में जगह-जगह बजते लाउडस्पीकर । हर तरह सोना ही उगला जा रहा था। लगा कि आजादी से पहले हमारे बाप दादा भूखों मरते थे। तब शायद किसी को काम नहीं था। सभी बेरोजगार थे। अब देश आजाद है। सामाजिक, आर्थिक दृष्टि से हर एक सुरक्षित है। कोई फटेहाल नहीं है। अब तो हर एक गरीब को मोबाइल भी मिल जाएंगे। इससे ज्यादा और क्या चाहिए एक आजाद देश के आजाद नागरिकों को।
घंटाघर के आसपास लाउडस्पीकर का शोर भी कुछ ज्यादा ही था। यानी सारे शहर का उत्साह वहीं केंद्रित था। घंटाघर के पास मेरी नजर रिड़कू पर पड़ी। वह अपनी एक दिन की नीलामी के लिए खड़ा था। रिड़कू मजदूरी करता था और काफी मेहनती भी था। घंटाघर में रिड़कू की तरह हर सुबह काफी संख्या में मजदूर खड़े होते थे। वहां ठेकेदार, या अन्य लोग मजदूरों की तलाश में पहुंचते हैं। दिहाड़ी का मोलभाव होता है और मजदूर को जरूरतमंद अपने साथ ले जाता है। इस चौक पर मजदूर अपने एक दिन के श्रम की नीलामी को खड़े होते हैं। वहां मुझे अकेला रिड़कू ही नजर आया। रिड़कू को मैं पहले से इसलिए जनाता था, क्योंकि उससे मैं भी घर में पुताई करा चुका था। मेरी उससे बात करने की इच्छा हुई। पास पहुंचने पर मैने उससे बचकाना सवाल किया, रिड़कू कैसे हो और आज यहां क्यों खड़े हो। रिड़कू बोला बाबूजी घंटाघर में मजदूरी की तलाश में ही खड़ा होता हूं। आज कोई बावूजी और ठेकेदार नहीं आया।
मैने रिड़कू को समझाया कि आज स्वाधीनता दिवस है। इस दिन देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था। आज कोई तूझे अपने साथ नहीं ले जाएगा। क्योंकि आज काम की छुट्टी होती है। काम कराने वाले का चालान हो सकता है। यह सुनकर रिड़कू निराश हो गया। वह बोला तभी दो घंटे से आज यहां कोई मजदूर के लिए नहीं आया। मैने उसे कहा कि आज सारा देश आजादी का जश्न मना रहा है। तुम भी मनाओ। घर जाओ बच्चों के साथ खुशी से नाचो। यह सुनकर रिड़कू बिफर गया। वह बोला कैसे मनाएं बाबूजी। एक हफ्ते से बारिश हो रही थी। ऐसे में काम ही नहीं मिला। पैसा खत्म हो गया। बनिया ने उधार देना बंद कर दिया। सुबह कनस्तर बजाकर पत्नी ने रोटियां बनाई तो बच्चों व उसके नसीब में एक-एक रोटी ही आई। आज काम नहीं मिलेगा तो शाम को चूल्हा कैसे जलेगा। जब तन ढकने को कपड़ा नहीं होगा, पेट में रोटी नहीं होगी, तो आप ही बताओ बाबूजी कैसे नाचूंगा। मुझसे बात करने के बाद रिड़कू समझ गया कि अब घंटाघर में खड़े रहने का कोई फायदा नहीं है। वह छोटे-छोटे डग भरकर घर की तरफ चल दिया और मैं भी अपने घर की तरफ। रास्ते में लाउडस्पीकर देशभक्ति के गीतों से गूंज रहे थे। इस शोर में मुझे अब कोई भी गीत स्पष्ट सुनाई नहीं दे रहा था। मेरे कान में बस वही गीत गूंज रहा था, जो मैने घर से निकलते हुए रास्ते में एक कामरेड के मकान के भीतर बज रहे डेक से सुना था। वो गीत था- सौ में से सत्तर आदमी, फिलहाल जब नाशाद हैं, दिल पर रखकर हाथ कहिए, देश क्या आजाद है।……..
भानु बंगवाल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.25 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग