blogid : 19172 postid : 867035

गीत प्रीत के ...........

Posted On: 7 Apr, 2015 Others में

गहरे पानी पैठपारदर्शिता का आह्वाहन करता नैतिक ब्लॉग

Bhola nath Pal

124 Posts

267 Comments

मुक्त ह्रदय से
मुक्त कंठ में
जब तुमसे बतियाता हूँ मैं ,
तुम कहते हो
भाव विह्वल हो
गीत प्रीत के गाता हूँ मैं i
तेरा जीना मेरा जीना
मेरी गर्दन तेरा सीना ,
एक हुए जब भाव विह्वल हो
हर्ष हर्ष हर्षाता हूँ मैं i
हे मेरे मन मीत बताओ
कैसे गुजरें दिन ये रातें ,
ख्वाबों की बगिया मैं ठहरीं
अरमानों की ढेर बरातें ,
आँख लगी औ मिटीं दूरियां
स्वांस स्वांस इतराता हूँ मैं i
कवि का जीवन
स्वप्न लोक में
जागना जीना उतराना ,
हे अनंत !
तुममें थिर रह कर
प्रभा लोक में रम जाना ,
तुमसा होगा कौन
ये कह कह
क्यों पल पल पागलता हूँ मैं i

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग