blogid : 19172 postid : 1300514

तो फिर सुखद प्राण बन जाओ ...........

Posted On: 17 Dec, 2016 Others में

गहरे पानी पैठपारदर्शिता का आह्वाहन करता नैतिक ब्लॉग

Bhola nath Pal

124 Posts

267 Comments

जब सूरज अमृत लाता है
अमर हुआ जो पी पाता है,
हर प्राणी संतृप्त हो गया
तो सूरज भी जी जाता है I
***************************
एक किरण काफी होती है
एक भाग्य चमकाने को ,
कुछ उत्तल दर्पण बैठे हैं
सारी किरणें पी जानें को I
***************************
माधव देता ,ऊधव लेता
ऐसी कोई बात नहीं ,
आँख आँख को किरण मिल गई
तो समझो अवतार सही I
****************************
सूरज क्या जानें क्या छाया
छाया तो प्राणी की माया ,
उत्तल समतल,समतल उत्तल
क्यों हैं? समय समझ न पाया I
*******************************
जब स्वासों में ही रमना है
संग हवाओं के चलना है ,
तो फिर सुखद प्राण बन जाओ
उठो देव ! कुछ तो हर्षाओ !!
****************************

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग