blogid : 19172 postid : 1317490

दिशा हीन ?

Posted On: 4 Mar, 2017 Others में

गहरे पानी पैठपारदर्शिता का आह्वाहन करता नैतिक ब्लॉग

Bhola nath Pal

124 Posts

267 Comments

संभव है
सूख जांय सरिताएं
सागर को खोजते खोजते
पर-
संभव नहीं
बसा लें वे
डबरों की बास
अपने तन में ,मन में .
मेरा काशी
मेरा काबा
मेरी नज़रों में है
जिधर देखता हूँ,
उधर तू ही तू
क्यों कहते हो मुझे
दिशा हीन ?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग