blogid : 19172 postid : 1341702

सहारा तेरी पनाहों का ...........

Posted On: 21 Jul, 2017 Others में

गहरे पानी पैठपारदर्शिता का आह्वाहन करता नैतिक ब्लॉग

Bhola nath Pal

124 Posts

267 Comments

झकझोर गया
कल-
तेरा इस तरह आना ,
निढाल हो
बांहों में गिर जाना
हकलाना ,
कुछ न कह पाना .
***************************
ख्वाहिशें तूफानों सी
ठहर गई
कुछ इस तरह ,
अरमानों को
मिल गया हो-
सहारा तेरी पनाहों का .
*************************
रीतियां हैं ,रश्में हैं
वादे हैं . कशमें हैं
बहुत कुछ है मेरे दोस्त
तेरे कूचे में ,
नसीब इतराता है
मेरी मन्नत
तेरे बस में है .
************

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग