blogid : 8725 postid : 1131215

फिर भी क्या सुनेंगे लोग मुझे ?

Posted On: 13 Jan, 2016 Others में

Bimal Raturi"भीड़ में अकेला खड़ा मै ताकता सब को..."

Bimal Raturi

52 Posts

121 Comments

खड़े हो कर सबके सामने बोलने के लिए हौसला चाहिए,
आम भीड़ में बोलने के लिए शब्दों का जाल चाहिए,
ख़ास भीड़ में बोलने के लिए हुनर चाहिए,
कोई कहता है पढो पुराने और नए लोगों की लिखी बातें,
उन का नजरिया सुनो और कहो उन की कही बातें,
और इन बातों से हर वक्त डर सा जाता हूँ मैं,
कि कहीं वो बात मुझ में है या नहीं,
कहीं वो जज्बात मुझ में है या नहीं,
क्यों कहूँ मैं नजरिया किसी और का,
क्यों कहूँ मैं अनुभव किसी और का,
मैंने नहीं पढ़ा किसी और को ,
मैंने नहीं सुना किसी और का लिखा,
सिर्फ थोडा घूमा और बतियाया है कुछ लोगों से
पर  फिर भी क्या सुनेंगे लोग मुझे ?

public-speaking

खड़े हो कर सबके सामने बोलने के लिए हौसला चाहिए,

आम भीड़ में बोलने के लिए शब्दों का जाल चाहिए,

ख़ास भीड़ में बोलने के लिए हुनर चाहिए,

कोई कहता है पढो पुराने और नए लोगों की लिखी बातें,

उन का नजरिया सुनो और कहो उन की कही बातें,

और इन बातों से हर वक्त डर सा जाता हूँ मैं,

कि कहीं वो बात मुझ में है या नहीं,

कहीं वो जज्बात मुझ में है या नहीं,

क्यों कहूँ मैं नजरिया किसी और का,

क्यों कहूँ मैं अनुभव किसी और का,

मैंने नहीं पढ़ा किसी और को ,

मैंने नहीं सुना किसी और का लिखा,

सिर्फ थोडा घूमा और बतियाया है कुछ लोगों से

पर  फिर भी क्या सुनेंगे लोग मुझे ?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग