blogid : 25489 postid : 1388116

आस्था का वरण

Posted On: 13 Aug, 2018 में

Parivartan- Ek LakshyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

bnpal

23 Posts

1 Comment

एक के बाद एक
लेकर जन्म
दी है हमने
समय श्रृंखला को गति
अन्यथा कौन जानता
क्या है
काल की प्रणति ।
खिसक जाती है ज्यों
मुट्ठी की रेट सी
हाथों से जिंदगी
काश
खिसक जाती रिक्तता
जीवन से यूँ ही
फिर कोई क्यों करता
किसी को बंदगी ।
अतृप्ति
खोजती रह जाती जब
संतृप्ति का स्रोत
और
नही हो पाती
उसकी महिमा से
ओतप्रोत
तब चूमती है बिबस्ता
गुरुता के चरण
और छोड़ कर
पद,प्रतिष्ठा का अहम
यश ,वैभव का वहम
करती है
श्रावकों सी
आस्था का वरण ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग