blogid : 25489 postid : 1388143

आज की गीता

Posted On: 6 Sep, 2018 Others,Politics,Spiritual में

Parivartan- Ek LakshyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

bnpal

23 Posts

1 Comment

बहाओ
ऐसी बयार,
कि मिटे
अंधविरोध का व्यापार।
टूटे –
तन्द्रा, निद्रा, कुंठा ।
मिटे –
मोह का मकड़जाल,
होने दो –
आशक्ति का पराभव,
प्रेम का पुनर्वास,
उदय हो
अनंत महाकाश,
फैले –
सत्य का विभास ।
मुक्त होना है
अपने ही संकल्पों की
कारा से,
उत्श्रंखल दुराग्रहों से,
चिंतन आवारा से ।
लगने दो –
विकास को पंख
हर्ष नादित हों
दिग्विजित शंख ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग