blogid : 25489 postid : 1388068

ताकि ध्वजा विकास की फहरती रहे

Posted On: 23 Apr, 2018 Politics,Spiritual में

Parivartan- Ek LakshyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

bnpal

23 Posts

1 Comment

‘पौ फटी
हुआ रजनी का
वक्ष विदीर्ण,
भयभीत कलुष करने लगा
अस्तित्व की फरीयाद।
लंगडे ने सुनी
अंधे की पुकार
और धंधा कलुष का
लेने लगा विस्तार। ’
रात,
कितनी भी काली हो,
घनी हो,
अंधीयारी हो
अंधेरे लाख साजिश रचें,
फुसलायें, छटपटायें,
सत्ता सत्य की
प्रेम की
अपनत्व की
करती है जब
अंतस में प्रवेश,
गूंजता है जब
चहूंदिस
एक ही संदेश,
आओ गढें
अपना भारत, सबका भारत
सबके साथ सबका विकास।
देश गढता है जब
विकास की परिभाषा,
विश्व पढता है जब
मैत्री की भाषा,
प्रहरी समय के रहते हैं
तब सजग
ढहने  देते हैं
जाति वर्ग की दीवारें,
विरामित करते हैं
विभाजन की तलवारें,
उगता है तब
सुख का सूरज,
खिलता है
हृदय कमल
और ध्वजा विकास की
फहराती रहती
अनवरत…….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग