blogid : 25489 postid : 1388150

प्रेम की परिभाषा....

Posted On: 6 Sep, 2018 Others,Politics,Spiritual में

Parivartan- Ek LakshyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

bnpal

23 Posts

1 Comment

मन ही तो है,
कुछ भी कह जाता है,
तुम पर गुरूर है,
हठ में बह जाता है।
कैसा है ? क्या है ?
जब पूछता है कोई,
मुँह को सिल लेता है,
पलकों से बह जाता है,
जानते हो क्यों !
क्योंकि……
वो नहीं जानता,
प्रेम की परिभाषा।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग