blogid : 25489 postid : 1388122

विकास का रथ

Posted On: 20 Aug, 2018 में

Parivartan- Ek LakshyaJust another Jagranjunction Blogs weblog

bnpal

23 Posts

1 Comment

नहीं
तुम नहीं सोच सकते
क्यों ढोते हो तुम
पीढ़ियों का बोझ
जब क़ि सारी दुनियां
या तो है मूक
या नहीं त्यागती
अँधेरों का लोभ ।
तुम कभी हीं सोचते

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग