blogid : 11280 postid : 264

कहां गायब हो गईं ये हसीनाएं

Posted On: 30 Nov, 2012 Others में

हिन्दी सिनेमा का सफरनामाभारतीय सिनेमा जगत की गौरवमयी गाथा

100 Years of Indian Cinema

150 Posts

69 Comments

आज तक आपने यह तो सुना होगा कि लोग गायब होते हैं पर यह सुनकर आपको हैरानी होगी कि सुन्दर दिखने वाली हसीनाएं भी गायब होती हैं. फिल्मी दुनिया को मायानगरी कहा जाता है और साथ में यह भी कहा जाता है कि इस दुनिया में जो भी आता है वो वापस नहीं जाता है पर यह झूठ है. फिल्मी दुनिया की ऐसी हसीनाएं जिन्होंने अपने कॅरियर की शुरुआत में अपने अभिनय से नाम तो कमाया पर कुछ समय बाद ही फिल्मी दुनिया से मुंह मोड़ लिया था.

Read:जब-जब कपड़े उतारे तब-तब मचा तहलका !!


चांदनी कहां गुम हो गई ?

bhagyashreeफिल्मी दुनिया में सलमान खान के नाम को उन अभिनेताओं में से एक माना जाता है जिसके साथ कोई भी अभिनेत्री काम कर ले तो वो हिट तो ही जाती है पर साथ ही साथ वो फिल्मी दुनिया को ही अपनी दुनिया बना लेती है पर यह कितना सच है यह हम आपको बताते हैं. सलमान खान के साथ सनम बेवफा में नजर आई चांदनी कहां गईं किसी को पता नहीं. उनके खाते में सनम बेवफा पहली और आखिरी फिल्म साबित हुई.  टेलीविजन की दुनिया से आईं भाग्यश्री के शुरुआती दौर तो अच्छे रहे लेकिन हिन्दी सिनेमा के बदलते तेवर को वह नहीं झेल पाईं.


फिल्मी दुनिया से क्यों रूठीं ?

फिल्मी दुनिया से हसीनाओं के गायब होने की कहानी यहीं तक सीमित नहीं है. 16 नवंबर, 1963 में जन्मीं मीनाक्षी शेषाद्री एक फिल्म एक्ट्रेस के साथ-साथ डांसर भी रही हैं. 17 साल की उम्र में 1981 में मिस इंडिया का खिताब जीतकर वह सबसे कम उम्र की मिस इंडिया बन गईं. ‘हीरो’, ‘दामिनी’, ‘आदमी खिलौना है’, ‘साधना, ‘हमशक्ल’, ‘आज का गुंडा राज’, ‘जुर्म’, ‘घायल’, ‘घर हो तो ऐसा, ‘प्यार का कर्ज’, ‘घराना’, ‘औरत तेरी यही कहानी’, ’20 साल बाद’, ‘आवारा बाप’ जैसी कई फिल्मों में अपने बेहतरीन एक्टिंग का परिचय दिया. 1991 में फिल्म ‘जुर्म’ के लिए और 1994 में फिल्म ‘दामिनी’ के लिए उन्हें फिल्मफेयर बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला. वह अपने समय की सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस के रूप में जानी जाती हैं. साल 1997 के बाद से मीनाक्षी फिल्मी दुनिया से अचानक गायब हो गईं पर क्यों मीनाक्षी ने ऐसा किया यह कोई नहीं जानता है.


Read:वेश्याओं की नजाकत


urmila matondkarउर्मिला की कहानी अधूरी

उर्मिला मार्तोंडकर की अभिनय क्षमता पर भला कौन शक कर सकता है. उन्होंने हर फिल्म में खुद को साबित किया. फिल्म पिंजर में दमदार अभिनय के लिए उन्हें जमकर सराहना भी मिली फिर ऐसा क्या हुआ कि उर्मिला को फिल्मी दुनिया रास नहीं आई? उर्मिला की तरह खुद को फिल्मी दुनिया से दूर करने वाली अभिनेत्रियों की बॉलीवुड में कमी नहीं है. अपने वक्त में ममता कुलकर्णी हॉट अदाओं के लिए जानी जाती थीं और उनके खाते में कई हिट फिल्में भी रहीं लेकिन सदाबहार एक्ट्रेस नहीं बन पाईं. उन्होंने भी बॉलीवुड से मुंह फेर लिया था.


बोल्ड अभिनेत्री का भी जादू नहीं चला

काजोल की छोटी बहन तनीशा ने हिन्दी सिनेमा में खूब हाथ-पैर मारने की कोशिश की लेकिन बात नहीं बनी. तनीशा नील एंड निक्की और सरकार में नजर आई थीं पर अब लगता है कि वो उनकी पहली और आखिरी फिल्म बन गई. ग्रेसी सिंह ने बॉलिवुड में लगान फिल्म से धमाकेदार दस्तक दी थी और अब बिना दस्तक दिए गायब हो गईं. शमिता शेट्टी अपनी बहन की शख्सियत के सहारे बॉलिवुड में छा जाना चाहती थीं. इसके साथ ही इन्होंने अंग प्रदर्शन को ढाल बनाया लेकिन शमिता का यह फॉर्मूला बहुत दिनों तक नहीं चल पाया.


‘ग्रेसी से लेकर स्नेहा तक को नहीं रास आई फिल्मी दुनिया’

ग्रेसी सिंह और स्नेहा उलाल ने जब बॉलीवुड में एंट्री की थी तो फिल्मी दुनिया के जानकारों ने अंदाजा लगाया कि यह अभिनेत्रियां अब फिल्मी दुनिया से कभी भी मुंह नहीं मोड़ेगी. पर किसे पता था कि हिट फिल्में देने के बाद भी दोनों को फिल्मी दुनिया रास नहीं आएगी. ग्रेसी सिंह की लगान आज भी हिन्दी सिनेमा में सदाबहार सुपर हिट फिल्मों की कैटिगरी में है और इसके बाद मुन्ना भाई एमबीबीएस भी कम सुपरहिट नहीं हुई पर पता नहीं क्यों ग्रेसी को फिल्मी दुनिया का रंग नहीं चढ़ा था. स्नेहा उलाल जब फिल्मी दुनिया में आईं तो चर्चा गर्म थी कि इनमें ऐशवर्या की झलक है. वह पूरे उत्साह के साथ बॉलिवुड में जगह बनाने के लिए बेताब थीं. हॉरर फिल्म क्लिक में उन्होंने खुद को साबित भी किया. लेकिन स्नेहा इसके बाद हिन्दी सिनेमा में कुछ नया और ज्यादा नहीं जोड़ पाईं.


24 फरवरी, 1972 में जन्मीं महेश भट्ट की बेटी पूजा भट्ट ने 17 साल की उम्र में एक टीवी फिल्म ‘डैडी’ से बॉलिवुड में अपनी शुरुआत की. पूजा भट्ट की हिट फिल्मों की बात करें तो 1991 में आई ‘दिल है कि मानता नहीं’ उनकी सुपरहिट फिल्म थी. इसके बाद फिल्म ‘सड़क’ में उनकी एक्टिंग को भी खूब तारीफ मिली. साल 2004 से वह डायरेक्शन की सीट पर आ गईं और एक्टिंग से काफी दूर चली गईं. फिल्मी दुनिया का ऐसा ही इतिहास रहा है कि हिट और कामयाब अभिनेत्रियां भी बॉलीवुड से मुंह मोड़ती आई हैं पर देखना यह है कि भूतकाल भविष्य में नजर आएगा या नहीं.


Read:पर्दे के पीछे बहुत बार अपनी लाज को बेचा है

ऐसी भी मौंते होती हैं……


Tags: Urmila Matondkar, Salman Khan, Bhagyashree, Sneha Ullal, bollywood, bollywood masala, bollywood actress list, bollywood hot heroines, bollywood style, बॉलीवुड मस्ती,  बॉलीवुड मसाला, बॉलीवुड हसीनाएं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग