blogid : 11280 postid : 480

कभी खुद बदनाम हुए और कभी दूसरों ने किया !!

Posted On: 1 May, 2013 Others में

हिन्दी सिनेमा का सफरनामाभारतीय सिनेमा जगत की गौरवमयी गाथा

100 Years of Indian Cinema

150 Posts

69 Comments

यहां मुन्नी से लेकर चमेली तक बदनाम होती हैं. कभी उन्हें खुद बदनाम होना अच्छा लगता है और कभी उन्हें दूसरे बदनाम कर देते हैं. समाज और फिल्मों का हमेशा से गहरा नाता रहा है, कभी फिल्मों ने समाज को और कभी समाज ने फिल्मों को प्रभावित किया है. चमेली, मुन्नी बदनाम हुई, फेवीकॉल से, लैला तेरी ले लेगी जान, चमेली, जैसे हजारों गाने हैं जिसमें हसीनाओं ने अपने अंग का कुछ इस कदर प्रदर्शन किया है कि समाज में महिलाओं के अंग प्रदर्शन की सीमा को लेकर हजारों सवाल उठने लगे हैं.

Read:पत्नी के होते हुए प्रेमिका ने बाजी कैसे मारी ?


bollywood styleगानों में ही नहीं फिल्मों में भी महिलाओं के अंग प्रदर्शन से बॉक्स ऑफिस पर फिल्में चलाई जाती हैं. यदि कुछ निर्देशकों की इस बात पर यकीन कर लिया जाए कि सिर्फ अभिनेत्रियों के अंग प्रदर्शन से फिल्में बॉक्स ऑफिस पर नहीं चलती हैं तो शायद सनी लियोन, पूनम पांडे और शर्लिन चोपड़ा जैसे नाम की जरूरत हिन्दी सिनेमा को नहीं होती. आज हिन्दी सिनेमा अपने सौ साल पूरे करने जा रहा है और इन सालों में ऐसी बहुत सी फिल्में आई हैं जिनमें अभिनेत्रियों के लीड रोल से फिल्में सुपरहिट हुई हैं फिर चाहे वो सालों पहले आई ‘मदर इंडिया’ हो या फिर साल भर पहले आई ‘कहानी’ फिल्म हो. इस बात को आज के मशहूर निर्देशक सुधीर मिश्रा भी मानते हैं कि अभिनेत्रियों के लीड रोल से फिल्म की पूरी कहानी पर असर पड़ता है लेकिन अधिकांश ऐसा होता है जब अभिनेत्रियों के किरदार के साथ इंसाफ नहीं किया जाता है क्योंकि मात्र उनके प्रयोग से ही फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर चलाने की कोशिश की जाती है फिर चाहे उनको फिल्म में मदर इंडिया बनाया जाए या फिर किसी वेश्या का किरदार निभाने के लिए कहा जाए.

Read:प्रेमिका बनकर ही नाम कमाया जा सकता है !!


chikni chameli jagranमहेश भट्ट, एकता कपूर जैसे तमाम ऐसे निर्देशक जो फिल्मों में बोल्ड और सेक्सी सीन दिखाए जाने को मात्र फिल्म की कहानी का हिस्सा मानते हैं और इस बात पर विश्वास रखते हैं कि अभिनेत्रियों के बोल्ड सीन करने को महिलाओं की स्वतत्रंता से जोड़ कर देखा जा सकता हैं वो शायद इस बात को भूल जाते हैं कि फिल्मों में दिखाए जाने वाले बोल्ड सीन समाज में सेक्स की भावना को उत्तेजित करते हैं. इस बात में कोई शक नहीं है कि हिन्दी सिनेमा ने समाज को ऐसी फिल्में दी हैं जिनसे महिलाओं की स्थिति में सुधार हुआ है पर साथ ही ऐसी फिल्में बहुतायत में बन रही हैं जिनमें महिलाओं को सिर्फ एक सेक्स सिंबल के रूप में दिखाया जा रहा है.


Read:दो बहनें क्या कम थीं जो तीसरी बहन भी तैयार



Tags: Bold Movies, Bold Bollywood Movies, Actress Bold Image, Bollywood Hot Actress, Actress Lifestyle, Poonam Pandey, Poonam Pandey Twitter, Sherlyn Chopra Twitter, Sherlyn Chopra, शर्लिन चोपड़ा, पूनम पांडे, बॉलीवुड स्टार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग