blogid : 11280 postid : 506

मैं घर से भाग गई थी जब...लता मंगेशकर

Posted On: 21 May, 2013 Others में

हिन्दी सिनेमा का सफरनामाभारतीय सिनेमा जगत की गौरवमयी गाथा

100 Years of Indian Cinema

150 Posts

69 Comments

Lata Mangeshkar Personal Life: True Life Story

कहते हैं कि बचपन में हम हजारों गलतियां करते हैं पर कुछ गलतियां ऐसी होती हैं जिनसे हम कुछ सीखते हैं. ऐसा ही इनके साथ भी हुआ. जब लता मंगेशकर बचपन में बहुत शरारत करती थीं तो उनकी मां उन्हें पकड़कर बहुत मारा करती थीं और वो गुस्से में अपनी फ्रॉक को गठरी में बांधकर कहती थीं ‘घर छोड़कर जा रही हूं’. लता घर छोड़ जब घर के पास वाली सड़क पर खड़ी हो जाती थीं तो उनकी मां जल्दी से उनके पीछे भागती थीं क्योंकि घर के पास ही एक तालाब था जिस कारण उनकी मां को डर लगता था कि वो कहीं तलाब में ना गिर जाएं.

Read:बदनाम हुए फिर भी नाम हो गया


True Life Story: Lata Mangeshkar

एक दिन ऐसा आया जब लता घर छोड़कर जाने लगीं तो उनके पिता जी ने कहा कि ‘इसे घर छोड़कर जाने दो और कोई भी उसे रोकने नहीं जाएगा’. तब लता को लगा कि शायद उनके पिता जी मजाक कर रहे हैं पर जब उन्होंने बार-बार पीछे मुड़कर देखा तो कोई भी उन्हें रोकने नहीं आया था. लता मंगेशकर के पिता जी ने यह बात उन्हें बचपन में ही समझा दी थी कि क्या सही है क्या गलत इसका फैसला तुम्हें खुद करना है क्योंकि जब जिंदगी के मोड़ पर आप तन्हां चल रहे होते हैं तो कोई भी आपका साथ देने नहीं आता है. उस समय आपको खुद ही फैसला लेना होता है कि कहीं आप गलत रास्ते पर तो नहीं चल रहे हैं. आज लता कहती हैं कि सोचकर हंसी आती है जब भी वो दिन याद आता है जिस दिन मैं घर से भाग गई थी.


lata jiLata Mangeshkar Biography

आज तक आपने लता मंगेशकर के फिल्मी कॅरियर और गाने की कला के बारे में बहुत सुना होगा या फिर पढ़ा होगा पर बहुत कम ही लोग ऐसे होंगे जो उनके निजी जिंदगी से जुड़ी खास बातें जानते होंगे. लता मंगेशकर के बारे में यही कहा जाता है कि वो हमेशा से अपने छोटे भाई-बहनों पर बड़ी दीदी होने का हक जताती थीं लेकिन उनका ऐसा मानना नहीं है. लता मंगेशकर कहती हैं कि वो अपने भाई-बहनों की सख्त दीदी नहीं थीं बल्कि वो उन्हें ऐसे संभालती थी जैसे माता-पिता अपने बच्चों को संभालते हैं. अब ऐसे में बच्चों को इस बात का भय हो ही जाता है कि उनके माता-पिता सख्त हैं. लता मंगेशकर के पिता जी उन्हें जिम्मेदार बेटी मानते थे इसलिए उनकी मृत्यु के बाद उन्होंने अपने भाई-बहनों के लिए मां और पिता दोनों का ही रोल अदा किया.

Read:एक पोस्टर के कारण मदर इंडिया हिट हुई थी !!


True Life Story In Hindi

लता आज भी रो पड़ती हैं जब वो यह कहती हैं कि उनके और उनके भाई-बहनों के बीच कभी भी कोई लड़ाई नहीं हुई बल्कि दिल में प्यार का सागर एक-दूसरे के लिए भरा रहता था पर समय जब रिश्तों के बीच दूरी बनाता है तो समय ही आपस की दूरियों को मिटा भी देता है. लता मंगेशकर के पिता जी नहीं जानते थे कि उनमें गाना गाने की कला का भंडार है. लता की मां गाना तो नहीं पर गीतों की लय की समझ रखती थीं लेकिन उनके पिता जी सुबह साढ़े पांच बजे ही तानपुरा बजाते हुए गातों को गाना शुरू कर देते थे. लता जब चार या पांच साल की रही होंगी जब उनके पिता जी को इस बात का पता चला कि उनमें गीतों की लय की समझ के साथ-साथ भगवान द्वारा दी गई सुरीली आवाज भी है. लता उन दिनों बहुत निराश हो गई थीं जब गायक और म्यूजिक कंपोजर स्वर्गीय भूपेन हजारिका की पत्नी प्रियंवदा ने भूपेन और लता के बीच प्रेम संबंध होने का दावा किया था. लता के लिए इस बात की कल्पना करना भी अपने आपको दुख देने जैसा था.

Read:आर्मी बैकग्राउंड की लड़कियों को लुभाती है माया नगरी !!


Lata Mangeshkar Personal Life

लता मंगेशकर ने जिस तरीके से गाने का रियाज किया है इस कारण ही भारत को विश्व की मशहूर गायिका मिल पाई है. लता को आज भी वो दिन याद है जब वो फिल्मों में गाना गाने से पहले मराठी कंपनी प्रफुल्ल पिक्चर्स में काम किया करती थीं. मात्र 14 वर्ष की उम्र में लता फिल्मों में हीरो या हीरोइन की बहन का रोल अदा किया करती थीं पर वो कभी भी अपने काम से निराश नहीं हुईं और जिंदगी के हर कदम पर साहस के साथ आगे बढ़ती रहीं. अब एक दिन ऐसा आया है जब लता मंगेशकर गर्व के साथ कहती हैं कि भारतीय सिनेमा के 100 सालों में 70 साल उनके हैं.

Read:शादी किए बिना ही बेटी को जन्म दिया था !!


Tags: Lata Mangeshkar, Lata Mangeshkar Biography, Lata Mangeshkar Personal Life, True Life Story, True Life Story In Hindi, लता मंगेशकर,लता मंगेशकर जिंदगी, लता मंगेशकर फिल्मी कॅरियर, लता मंगेशकर गाने

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग