blogid : 1755 postid : 357

अब क्या खरीदूं !

Posted On: 2 Aug, 2011 Others में

चातकआओ खोजें हिंदुस्तान

chaatak

123 Posts

3892 Comments

आते जाते मैं अक्सर उस दुकान पर ठिठक जाता था और उसमे करीने से सजाई चीजों को बड़ी हसरत से देखा करता था| ये दुकान थी सपनो की, अन्य दुकानों से बिलकुल अलग! काफी गहमा-गहमी का माहौल रहता था पर मेरी निगाहें सीधे अपने सपनों पर ही जाकर टिक जाती थीं| हर बार मन करता था कि उनमें से कोई सपना साथ लेता चलूँ लेकिन मजबूरी थी मैं चाह कर भी कुछ नहीं खरीद सकता था| मैं ही क्यों वहां आने वाला कोई भी व्यक्ति आसानी से कुछ भी नहीं खरीद पाता था क्योंकि आपको एक सपना खरीदने के लिए कम से कम दो सपने बेचने पड़ते थे और मुझे तो बहुत सारे सपने खरीदने थे, कुछ अपने लिए और कुछ अपनों के लिए | कम से कम एक सपना तो पापा के लिए जरूर लेना था फिर अम्मा की याद आती, उनके लिए भी एक सपना खरीदना है, दीदी के सपने भी तो मुझे पता हैं उनके लिए कुछ ख़ास लेना होगा और छोटा भाई उसने भी तो कुछ सपने देख रखे हैं कम से कम एक तो उसे दे सकूं! समझ में नहीं आता था कि कौन से सपने बेंच दूं तो इनमें से सभी के लिए कुछ न कुछ जरूर ले जा सकूं! काफी सोचने के बाद भी कुछ न सूझता और मैं बिना कुछ बेंचे, बिना कुछ खरीदे वापस आ जाता|
एक दिन जब मैं उस दुकान पर पहुंचा तो देखता हूँ कि मेरा एक छोटा सा सपना अपनी जगह पर नहीं था| मैं बेचैन हो उठा| आज रहा नहीं गया और मैं सीधे दुकानदार के पास पहुंचा और उससे अपने सपने के बारे में जानना चाहा| दुकानदार ने बिना कुछ कहे उस दीवार की ओर इशारा किया जहां वह लोगों द्वारा बेंचे गए सपने लगाता था| मैंने नजर घुमाई- वहां मेरे पापा और अम्मा के बहुत सारे सपने सजे थे|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग