blogid : 1755 postid : 190

प्रेयसी

Posted On: 6 Sep, 2010 Others में

चातकआओ खोजें हिंदुस्तान

chaatak

125 Posts

3892 Comments

गिरिवर से निकल, वो चंचल मन,
नर्तन करती, मदमाती है;
छम-छम करती पायलिया जब,
घुँघरू के गीत सुनाती है;
वो जानी ना पहचानी है,
अनजानी है पर लगता है;
उसकी चंचलता सदियों से,
मेरे मन को उकसाती है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 4.62 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग