blogid : 7734 postid : 194

"बस नेता ही है मेहफूज"

Posted On: 2 May, 2012 Others में

कलम...{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

महाभूत

36 Posts

1877 Comments

हमारी थालिओं की भूख गायब, गायब है जिस्म से खून,
मेहफूज है मजबूरियाँ, जिस्म मे बस हड्डियाँ ही हैं मेहफूज !

——————————————————-

हमारी रसोई से आटा-दाल-सब्जी गायब, गायब मीठा और सुकून,
मेहफूज है खाली डिब्बों मे महंगे कंकड़, पेट मे बस पत्थरी ही हैं मेहफूज !

——————————————————————-

हमारे सर की छतनार गायब, गायब अपनी पुश्तैनी जमीन,
मेहफूज है बेमन नींद फुटपाथ पर, बदन पर फटा कुर्ता पजामा ही हैं मेहफूज !

——————————————————————–

हमारी अर्जियां फाईलों से गायब, गायब दफ्तर से बाबुजी और मुनीम,
मेहफूज है नए आवेदन प्रारूप , अभी और नए दफ्तर के चक्कर है मेहफूज !

——————————————————————–

हमारे घरों से हंसी गायब ,ख़ुशी गायब , नदी गायब और सड़क गायब ,
मेहफूज है बस मुफलिसी की बीमारियाँ, बस अब मरना है मेहफूज !

——————————————————————-

हमारे देश की उन्नति गायब, गायब हो रहा गरीब आंम आदमी,
मेहफूज है बस पार्टियाँ ,अब इस गुलिस्तान मे बस नेता ही है मेहफूज !

——————————————————————-

देखो अब ये हालात है की क्या-क्या गायब कर रही राजनीती ,
गनीमत है अभी वतनपरस्ती है सलामत, और कौमी एकता है मेहफूज !

**********

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग