blogid : 7734 postid : 138

मैं मौत से क्यूँ डरु,

Posted On: 12 Apr, 2012 Others में

कलम...{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

महाभूत

36 Posts

1877 Comments

मैं मौत से क्यूँ डरु,

मै जो हर रोज हर लम्हा,

मरता हूँ तडपता हुआ हजारो जिंदगियां !

डरता हूँ मगर जिन्दगी से,

जो पैदा कर रही है हर पल इक नई मौत !

*********

मौत अपनी ही आज़ादी की,

मेरे पहचान की दर्दनाक मौत,

मौत मुंह के निवाले की बेमतलब,

खुद अपने हाथो से करनी पड़ी मन की मौत !

*******

मौत अभिव्यक्ति की मौत,

घुट घुट कर अस्तित्व की मौत,

खून ईमान का,

मेरे जमीर की मौत,

*******

यद्यपि फिर भी देखोगे तुम मुझे,

रोते बिलखते आंसू बहा बहा ,

गिड़गिड़ाकर मांगते हुए,

चंद सांसे मौत से जिन्दगी के लिए,

कुछ और नई मौते जिन्दगी से जीने के लिए !

******

तुम चाहे फब्तियां कसते रहो मुझ पर,

चाहे लाख झूठा बताओ मुझे,

मगर ये निर्मम सत्य है,

झूठ की तरह,

मुझे जिन्दगी से प्यार है,

मौत की खातिर !

*******

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.60 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग