blogid : 7734 postid : 157

"अटठाइस रूपए वाले गरीब"

Posted On: 16 Apr, 2012 Others में

कलम...{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

महाभूत

36 Posts

1877 Comments

हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी,
फांकते है नाश्ते में सूखे कंठ से खट्टी मीठी हवा,
और दोपहर के भोजन में गम के गुबार फांकते हैं,
शब् गुजरती है जिल्लत की आग पीकर,
खौलती जमीन पर आंसू बिछा के सो जाते हैं,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबु जी !

***
***

मुफलिसी हमारा ताअरूफ कैफियत हमे अपने औकात की,
नवागत है कौड़ी भी कीमत नहीं हमारी क्षुद्र जात की,
परिताप के कोड़े की पुचकार से पले बढे है,
चुभते है काले अच्छर जो आँखों की कोर्निया थी,
तालीम के अपराध में घुटन की फांसी के वाशिंदे है बाबूजी ,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी !

***
***

शर्म ही हमारी लक्ष्मी का चीर-दुपट्टा, दीपक-दुकूल है बाबूजी,
पसीना की गिलाई बदन की ठंडक, साँसे सर्दी का अलाव बाबूजी,
नाकामी को सिला करते हैं कोशिशो की सुई से,
पलस्तर कर चुनवा दिया जिस्म में जंहा दर्द पनपता है बाबूजी,
कई दफा टूटे सपने वेल्डिंग के टाँके से जोड़े हैं बाबूजी,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी !

***
***

हम कषक-कुल्नियों को सहने का गन्दा इल्म है,
लोचनों में इफरात टुटा-फूटा काइयाँ भोलापन हैं,
रोम रोम में बसी है बस हिकारत ही हिकारत,
हम दर्द के तलबगारों की पहचान कमर का छोटापन है,
हम दारिद्र्यता के कोढ़ से गले लोग है बाबूजी,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी!

***
***

घूमने जाते है बस सपनो में ही मुरादों की सैर,
हमारी परछाईयाँ भी सवर्णों के यंहा नौकर है बाबूजी,
नक्कादों को कहियेगा वक़्त जाया न करे हम फटीचरो पर,
हम तो नाशाद घसियारे बेवजह आबाद है बाबूजी,
उजाला होता हमारी गलियों में झोपडी तलक,
जब कभी नेता कदम यंहा भूल से भटकते है बाबूजी,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी !

***
***

कंहीं बिकता हो जिस्म तो बतलाइएगा,
हमारी भूख का यही इंतजाम है बाबूजी,
किडनियां बिकवा दीजिएगा तो कर्ज उतार देंगे ,
मूल पाटते पाटते किश्तों में चली गई सारी जवानी,
सूद चुकता करते करते उम्र बाबूजी,
हो सके तो हमे हमारे  हाल पे छोड़ दो बाबूजी,
हम अटठाइस रूपए वाले गरीब हैं बाबूजी,
हम बहुत छोटे लोग है बाबूजी !

***
***

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग