blogid : 7734 postid : 218

"ख़ारिज कीजिए शौक से मेरी मुहब्बत"

Posted On: 13 May, 2012 Others में

कलम...{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

महाभूत

36 Posts

1877 Comments

ख़ारिज कीजिए शौक से मेरी मुहब्बत , गिराइए अदब नजरो से,

जो रूह्तलक जुड़ गया तेरे मेरे रूह का रिश्ता , उसे कैसे कर पाओगे ख़ारिज !

————————————————————————————————————–

————————————————————————————————————–

बयां करेंगी तुम्हारी करवटे , केशुओं की महक, , माथे का शिकन,

आइना जो यकीं दिलाएगा तेरी गिरफ़्तारी , उसे कैसे कर कर पाओगे ख़ारिज !

————————————————————————————————————–

————————————————————————————————————–

रस्म ए उल्फत यही तो आ बैगरत , सीने मे खंजर उतार दे,

जी कर क्या करेंगे पत्थर दिल , जो तुने हमे कर दिया ख़ारिज !

————————————————————————————————————–

————————————————————————————————————–

तेरा खंजर भी जो पा  सके तो , मौत खुशगवार निकाह सी  होगी,

कब्र से पुकारा करूँगा तेरा नाम , कब तक मेरी दीवानगी करोगे ख़ारिज !

—————————————————————————————————————

—————————————————————————————————————

न मान यकीं जालिम मेरी मुहब्बत का, चन्दन फकीर तेरी मुहब्बत मे,

जो फ़रिश्ते उतर आस्मां से बतलायेंगे, तो कैसे कर पाओगे ख़ारिज !

—————————————————————————————————————

—————————————————————————————————————

जब आंख  से  गिरेगा मेरे नाम का मोती, कलेजा प्रेमपुकार लगाएगा,

तड़प के तब सरेबाजार करोगे इकरार-चन्दन,अभी ज़माने से डरे करते हो ख़ारिज


————————————————————————————————————-

ऊपर लिखी गजल इक आशिक की है , जो अपनी महबूबा से अपने जज्बात कह रहा है ,

————————————————————————————————————–

और आज क्यूंकि mother’s day इसलिए निचे लिखी दो पंक्तियाँ माँ को समर्पित है

In love of  my mother , she  is far away from me in her native village,

Herewith ,i am  posting few lines of my poem for her ,

————————————————————————————————————

————————————————————————————————————-

मै रात रोया था माँ कटोरे भर आंसू ,

मुझे आज मेरी माँ, तू बहुत याद आई थी !

————————————————————————————————————–

————————————————————————————————————-

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग