blogid : 16502 postid : 749091

प्रदूषित पर्यावरण एवँ मानव (jagran junction forum)

Posted On: 3 Jun, 2014 Others में

ijhaaredilPoems, articles etc

चित्रकुमार गुप्ता

83 Posts

164 Comments

पारा मुसलसल उपर चढ रहा है,

जिस्म औ जमीँ दोनोँ का ताप बढ रहा है,

धैर्य, सँयम की बर्फ पिघल रही है,

सहनशीलता के ध्रुवोँ का वजूद सिमट रहा है,

हो गये हैँ छेद रिश्ते नातोँ की परत मेँ,

स्वार्थ की किरणोँ से इन्सान झुलस रहा है,

घृणा, ईर्ष्या की अम्लीय वर्षा है होती,

हिँसा के समुन्दरोँ का पानी चढ रहा है,

भाईचारे, सदभाव के पेङ कट गये हैँ,

दरियादिली का जंगल हर रोज घट रहा है,

इंसानियत की नदियाँ दूषित हो गयी हैँ,

अनैतिकता का हवा मेँ जहर घुल रहा हैँ,

है कौन जिम्मेदार इस पतन का यारो,

मुझे तो मानव ही दानव
लग रहा है ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग