blogid : 16502 postid : 782607

मन की व्यथा मन मेँ रख लो

Posted On: 11 Sep, 2014 Others में

ijhaaredilPoems, articles etc

चित्रकुमार गुप्ता

83 Posts

164 Comments

अपने जख्मोँ को उघाङकर
किसी को मत दिखा,
दिल मेँ छिपे दर्द को
गैरोँ को मत बता,
बहुत ही फरेबी है
यह दुनिया यार,
करीब आयेगी,
झूठी हमदर्दी जतायेगी,
तुझको करके जज्बाती,
राजेदिल ले जायेगी,
फिर चटकारे लेकर,
तेरे दर्द के किस्से
महफिल मेँ सुनाकर
जमकर कहकहे लगायेगी,
हर दिल तो इन्सानी
दिल नहीँ होता है,
हर इन्साँ तो वाकई
इन्साँ नहीँ होता है,
किसी पर दौलत का,
किसी पर शोहरत का
मुलम्मा चढा होता है,
कोई जमा होता है
ओहदे की बर्फ से,
कोई अटा होता है
गरूर की गर्द से,
कहाँ घुस पाते हैँ
हर सीने मेँ जज्बात,
कौन समझता है
दूसरे के हालात,
इसलिए दोस्त
दर्द को अपने
दिल मेँ दफ्न करले,
मिलते वक्त लोगोँ से
होठोँ पर
(चाहे झूठी ही सही)
मुस्कान धर ले ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग