blogid : 1048 postid : 130

Career in Telecom Industry-दूरसंचार क्षेत्र में कॅरियर

Posted On: 30 Jun, 2011 Others में

नई इबारत नई मंजिलJust another weblog

Career Blog

197 Posts

120 Comments

Career in Telecom Industryआज फोन और मोबाइल लोगों की प्रथम आवश्यकता बन गए हैं। मोबाइल उपभोक्ताओं (Mobile Consumer) की संख्या में तेजी से हो रहा विस्तार इसका सूचक है। भारत की विशाल जनसंख्या टेलीकम्युनिकेशन क्षेत्र (Telecommunication Area) की प्रगति में सहायक सिद्घ हो रही है। इस सेक्टर में हो रहे विकास (Development) से प्रभावित होकर बहुत से युवा अच्छे कॅरियर (Career) का सपना संजोकर इस फील्ड में आ रहे हैं।


हर लेवल के कोर्स

टेलीकॉम इंडस्ट्री (Telecommunication  Industry) में डिप्लोमा (Diploma), ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट (Graduation and Post Graduation) लेवल के कोर्सो (Courses) के अलावा मैनेजमेंट (Management) संबंधी कोर्स भी हैं। यहां इंट्री के लिए बीई, बीटेक, एमई, एमटेक (M-Tec), एमबीए (MBA) जैसे कोर्स खासे अहम हो चुकेहैं।


शैक्षिक योग्यता  (Academy Qualification)

इस सेक्टर में प्रवेश के लिए आपको पीसीएम ग्रुप (PCM Group) से बारहवीं पास (12th Pass) होना जरूरी है। इस न्यूनतम शैक्षिक योग्यता (Minimum Academic Qualification) के बाद ही आप टेलीकॉम (Telecom) में बीटेक (B-Tek) एवं बीई कोर्स कर सकते हैं। वहीं अगर आप इसमें एमबीए (Master of Business Administration) करना चाहते हैं तो आपका साइंस या इंजीनियरिंग (Science or Engineering) में स्नातक होना आवश्यक है।


क्या सिखाते हैं

ग्रेजुएट एवं पोस्ट ग्रेजुएट (Graduation and Post Graduation) लेवल के कोर्सो (Courses) में एनालॉग और डिजिटल कम्युनिकेशन (Analog Digital Communication), मल्टीमीडिया एवं डाटा कम्युनिकेशन (Multimedia or Data Communication), नेटवर्किग (Networking), ऑप्टिकल कम्युनिकेशन (Optical Communication), मॉड्यूलेशन टेक्निक्स (Modulation Techniques) आदि के बारे में समस्त जानकारियां उपलब्ध कराई जाती हैं। इसके विभिन्न कोर्सो में टेलीफोन एवं मोबाइल (Telephone and Mobile) उपकरणों की एसेंबलिंग (Assembling) आदि की जानकारी भी दी जाती है।


Career in Telecom Industry

बढ रहे हैं अवसर (Growing Opportunities)

भारत में टेलीकॉम इंडस्ट्री (Telecom Industry) की गति अन्य समकक्ष देशों की तुलना में कहीं अधिक है। जैसे-जैसे यह क्षेत्र आगे बढ रहा है, वैसे-वैसे इसमें नए-नए तरह के रोजगारों (Employments) का भी सृजन हो रहा है। प्रतिवर्ष हजारों युवा इस क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं। भारत का मोबाइल फोन बाजार विश्व में सर्वाधिक तीव्र गति से आगे बढ रहा है। चीन (China) के बाद टेलीकम्युनिकेशन (Telecommunication) का सबसे बडा नेटवर्क (Network) भारत (India) में ही है। फरवरी 2011, तक देश में कुल 79.138 करोड मोबाइल उपभोक्ता (Mobile Consumer) थे। मोबाइल एवं फोन का प्रयोग करने वालों की संख्या में हो रही अभूतपूर्व वृद्घि से टेलीकॉम इंडस्ट्री (Telecom Industry) में लाखों-लाख रोजगारों (Employments) का जन्म हुआ है। अनुमान के अनुसार आने वाले सालों में यह इंडस्ट्री और तीव्र गति से विकास करेगी। उम्मीद है कि इस सेक्टर में अब हमेशा रोजगार (Employment) के सुनहरे अवसर मौजूद रहेंगे।


कहां-कहां हैं अवसर (Opportunities)

1- डिफेंस सेक्टर (Defence Sector): इसमें आप टेलीकम्युनिकेशन (Telecommunication) से जुडी कंपनियों (Companies) के अलावा डिफेंस सेक्टर (Defence Sector) के साथ भी कदम आगे बढा सकते हैं। डिफेंस सेक्टर (Defence Sector)  एयरफोर्स (Air Force), नेवी (Navy), आर्मी (Army), स्टेट फोर्स (State Force) आदि में भी समय-समय पर इसके जानकारों के लिए नौकरियां (Jobs) निकलती रहती हैं।

2- रिसर्च विंग (Research Wing): टेलीकम्युनिकेशन (Telecommunication) में बीई, बीटेक, एमई, एमटेक आदि कोर्स करने के बाद आप इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (Indian Space Research Organization), इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी (Indian Institute of Space Science and Technology), डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (Defence Research and Development Organisation) जैसी नामचीन संस्थाओं में रिसर्च असिस्टेंट (Research Assistant), रिसर्च एसोसिएट (Research Associate), साइंटिस्ट (Sciencetist) आदि के रूप में काम कर सकते हैं। वेतन (Salary) के नजरिए से भी इस तरह की संस्थाएं अच्छी मानी जाती हैं।

3- टेलीकॉम कंपनियां (Telecom Companies): एक-एक कस्टमर (Customer) को लेकर मोबाइल कंपनियों (Mobile Companies) के बीच जारी प्रतिस्पर्धा (Competition) के चलते टेलीकॉम सेक्टर (Telecom Sector) में योग्य व्यक्तियों को आकर्षक पैकेज उपलब्ध हो रहे हैं। टेलीकॉम से जुडा कोर्स करने के बाद इन मोबाइल कंपनियों (Mobile Companies) में आप प्रोजेक्ट मैनेजर (Project Manager), सिस्टम इंजीनियर (Systems Engineering), जूनियर इंजीनियर (Junior Engineer), ऑपरेशन हेड (Operation Head) आदि के रूप में काम शुरू कर सकते हैं।

4- शिक्षक के रूप में (As a Teacher): टेलीकॉम सेक्टर (Telecom Sector) के प्रति लोगों के बढते रुझान को देखते हुए कई विश्वविद्यालय व संस्थान (University Institute) इसके कोर्सो को करा रहे हैं। इसके अच्छे जानकार इन विश्वविद्यालयों (Universities) के साथ जुडकर टेलीकॉम शिक्षक (Telecom Teacher) के रूप में भी काम कर सकते हैं। इन संस्थानों में वेतन (Salary) का स्केल भी अच्छा होता है।


प्रमुख संस्थान (Institutes)

भारती स्कूल ऑफ टेलीकम्युनिकेशन ऐंड मैनेजमेंट, नई दिल्ली (Indian Institute of Telecom Management, New Delhi)

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खडगपुर (Indian Institute of Technology, Kharagpur)

पुणे विश्वविद्यालय, पुणे  (University Of, Pune)

यूनिवर्सिटी ऑफ इंजीनियरिंग ऐंड टेक्नोलॉजी, चंडीगढ (University of Engineering and Technology, Chandigarh)

बिडला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रांची (Birla Institute of Technology, Ranchi)


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग