blogid : 7002 postid : 1392886

मां का सपना पूरा करने के लिए क्रिकेटर बने चेतेश्वर पुजारा, इन मुश्किलों से गुजरकर हासिल किया लक्ष्य

Posted On: 25 Jan, 2019 Sports में

Shilpi Singh

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

1179 Posts

126 Comments

टीम इंडिया के नए वॉल चेतेश्वर पुजारा ने अपनी शानदार बल्लेबाजी से कई बार भारतीय टीम के जीत दिलाई है। चेतेश्वर पुजारा आज अपना 31वां जन्मदिन मना रहे हैं। 25 जनवरी, 1988 को गुजरात के राजकोट में चेतेश्वर पुजारा का जन्म हुआ था। पिता अरविंद पुजारा और मां रीमा पुजारा ने बेटे के पांव पालने में ही देख लिए थे। चेतेश्वर की प्रतिभा पहचानते हुए पिता अरविंद और मां रीमा ने उन्हें बचपन से ही क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया। तो चलिए जानते हैं आखिर कैसे बने पुजारा भारत के दूसरे वॉल के नाम से जाने जाते हैं।

 

 

विरासत में मिला क्रिकेट के प्रति रुझान
25 जनवरी, 1988 को गुजरात के राजकोट में जन्मे पुजारा की प्रारंभिक शिक्षा गुजरात से ही हुई। पुजारा बीबीए की पढ़ाई कर चुके हैं. बचपन में ही क्रिकेट के प्रति उनके रुझान को देखते हुए चेतेश्वर पुजारा के माता पिता ने उन्हें इस खेल के लिए प्रोत्साहित किया। क्रिकेट के शुरुआती गुर चेतेश्वर को पिता अरविंद पुजारा से सीखने को मिले जो सौराष्ट्र के लिए रणजी ट्रॉफी खेल चुके हैं। चेतेश्वर के चाचा बिपिन पुजारा भी सौराष्ट्र के लिए रणजी खेल चुके हैं।

 

pujara

 

मां की दुआएं

पुजारा की इस सफलता के पीछे जितनी उनकी मेहनत हैं उससे कहीं ज्यादा उनकी मां रीना की दुआएं हैं। पुजारा ने एक बार कहा था कि मां मुझे देश के लिए खेलते देखना चाहती थीं, लेकिन जिस दिन मुझे ये मौका मिला, उस दिन अफसोस मेरी मां मेरे साथ नहीं थीं। बता दें कि रानी पुजारा को कैंसर था और जब 2005 में अंडर-19 का मैच खेल कर लौटे तो उन्हें पता चला कि मां अब इस दुनिया में नहीं हैं। बस उसके बाद से ही पुजारा की लाइफ का एक ही मकसद था, मां के सपने को पूरा करना और वो सपना मां की मौत के बाद पांच साल बाद पूरा हुआ। इसलिए पुजारा के लिए क्रिकेट केवल एक खेल नहीं बल्कि एक पूजा है।

 

2pujara

 

पिता बेहद अनुशासित और सख्त कोच

पुजारा ने कहा था कि मेरे पिता अरविंद पुजारा बेहद अनुशासित और सख्त कोच हैं, हम आज भी फोन पर खेल के तकनीकी पक्षों की चर्चा करते हैं, सच कहूं तो वो ही मेरे गुरू और मेंटर हैं।

 

Cheteshwar Pujara12

 

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2010 की घरेलू सीरीज

टेस्ट क्रिकेट में पुजारा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2010 की घरेलू सीरीज के दूसरे क्रिकेट टेस्ट मैच में पदार्पण किया। घायल वी वी एस लक्ष्मण के स्थान पर शामिल पुजारा पहली पारी में केवल तीन गेंदों का सामना कर एक चौके की सहायता से चार रन बनाकर आउट हो गये थे।

 

jpeg

 

पुजारा के पास कमाल की टेक्निक है

अगस्त 2012 में पुजारा ने न्यूजीलैंड के खिलाफ हैदराबाद में खेले गए टेस्ट मैच में 159 रन बनाकर अपना पहला टेस्ट शतक बनाया था। पुजारा आज भारतीय क्रिकेट टीम के टॉप प्लेयर्स में से एक हैं। कमाल की टेक्निक और शांत स्वभाव उन्हें अलग पहचान दिलाती है। पुजारा ऐसे पांचवें भारतीय बल्लेबाज़ हैं जिसने अपनी पहले ही मैच में चौथी पारी में अर्द्धशतक बनाया।

 

Cheteshwar-

 

टेस्ट प्रारूप में बनाया अपना अलग मुकाम
यह चेतेश्वर की गहरी लगन का ही नतीजा है कि आज जब क्रिकेटर्स फटाफट क्रिकेट के ओर जा रहे हैं, उन्होंने टेस्ट टीम इंडिया में ऐसा स्थान बना लिया है कि उनके बिना टीम की कल्पना करना ही मुश्किल है। हालांकि, इसके बावजूद वे आईपीएल में किसी भी फ्रेंजाइजी की पसंद नहीं बन सके। 2018 में टीम इंडिया के भरोसे के खिलाड़ी होने के बाद भी वे आईपीएल में खरीदे नहीं गए। वहीं टीम इंडिया के लिए उन्होंने आखिरी वनडे मैच साल 2014 में खेला था।

 

9-pujara-academy-1

 

पिता और चाचा के नाम पर क्रिकेट अकादमी

चेतेश्वर पुजारा, उनके पिता अरविंद पुजारा और चाचा बिपिन पुजारा ने राजकोट में चेतेश्वर पुजारा के नाम से एक क्रिकेट अकादमी भी खोली है। राजकोट से लगभग 16 किलोमीटर दूर इस अकादमी में युवा खिलाड़ियों को निशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है।…Next

 

Read More:

टीम इंडिया टेस्ट में टॉप पर कायम, ODI में नंबर एक की राह नहीं है आसान

विश्व कप 2019 के लिए टीम लगभग तय, लेकिन इस वजह से कोई भी हो सकता है बाहर : रोहित

‘द वॉल’ राहुल द्रविड़ के आज तक नहीं टूटे ये रिकॉर्ड, आंकड़ों के सरताज हैं द्रविड़

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग