blogid : 7002 postid : 1389390

5 बेहतरीन गेंदबाज, जिन्होंने छोटे से करियर में बल्लेबाजों को किया परेशान

Posted On: 24 Mar, 2018 Sports में

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

1179 Posts

126 Comments

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें खिलाड़ी के द्वारा अपने अच्छे प्रदर्शन को लंबे समय तक बरकरार रखना बेहद मुश्किल होता है खासकर तब जब आप एक गेंदबाज हों। ऐसे में क्रिकेट जगत में कई बॉलर आए जिन्होंने शुरुआती सालों में ऐसा प्रदर्शन किया कि लगा अब इनका इतिहास में नाम छप जाएगा। लेकिन अगले कुछ सालों में वह अर्श से फर्श पर कैसे आ गए उन्हें भी पता नहीं चला। आज हम ऐसे ही कुछ क्रिकेटरों के बारे में आपको बताएंगे जिन्होंने बहुत थोड़े समय के लिए अपनी गेंदबाजी से विश्व के चुनिंदा बल्लेबाजों को परेशान किया था।

 

 

1. इरफान पठान

इरफान पठान ने भारत के लिए अब तक 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी20 मैच खेले हैं। साल 2004-05 के दौरान पठान ने टेस्ट क्रिकेट में अपनी गेंदबाजी से खूब धमाल मचाया था। पठान ने इस दौरान खेले गए 17 मैचों में 72 विकेट ले डाले थे। जिसमें 6 बार उन्होंने 5 विकेट भी लिए थे। पठान ने पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच में हैट्रिक इसी दौर में ली थी। लकिन उसके कुछ सालों बाद उनकी गेंदबाजी और फिटनेस की धार खोती चली गई और सालों से वो भारतयी टीम से दूर हैं।

 

 

2. अजंथा मेंडिस

क्रिकेट की अबूझ पहेली के नाम से विख्यात अजंथा मेंडिस ने श्रीलंका के लिए 87 वनडे मैचों में 152 विकेट और 19 टेस्ट मैचों में 70 विकेट लिए। साल 2008 में उन्होंने करियर की शुरुआत की और आते ही मेंडिस ने अपनी गेंदों से कहर ढा दिया। पहले 18 मैचों में मेंडिस ने 48 विकेट ले डाले। इस दौरान उनका बेस्ट बॉलिंग फिगर 13 रन देकर 6 विकेट रहा जो उन्होंने भारत के खिलाफ एशिया कप 2008 में मुकम्मल किया था। मेंडिस का जादू अगले सालों में फीका पड़ गया और उन्हें श्रीलंका टीम से निकाल दिया गया।

 

 

3. नाथन ब्रैकन

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज नाथन ब्रैकन का ऑस्ट्रेलिया की ओर से काफी बढ़िया करियर रहा और उन्होंने 116 वनडे मैचों में 174 विकेट झटके। ब्रेकन अपने करियर में उफान पर साल 2006 से 2008 के बीच रहे। इस दौरान ब्रेकन ने कुल 113 विकेट लिए और ऑस्ट्रेलिया को 2006 चैंपियंस ट्रॉफी और 2007 विश्व कप जिताने में अहम भूमिका निभाई। साल 2009 में उनका प्रदर्शन खराब हुआ और वह पूरे साल में 24 वनडे मैचों में कुल 26 विकेट ही ले पाए। साथ ही इस दौरान वह टखने की चोट से भी जूझे। इसके बाद से फिर कभी ब्रेकन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी नहीं कर पाए।

 

 

 

4. ज्योफ एलट

न्यूजीलैंड के बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक ज्योफ एलट ने जिस तरह से साल 1999 के विश्व कप में गेंदबाजी की थी उसने विश्व के चुनिंदा बल्लेबाजों को उनके सामने हथियार डालने को मजबूर कर दिया था।

 

 

प्रतिभा के धनी एलट ने कुल 5 साल तक क्रिकेट खेला लेकिन अचानक से वो गायब हो गए। साल 1999 के विश्व कप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले एलट ने साल 1999 में कुल 17 मैचों में 34 विकेट लिए थे। लेकिन आने वाले सालों में एलट की फॉर्म एकदम से खराब हो गई और फिर वह लौटकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में नजर नहीं आए। एलट ने अपने करियर में कुल 31 वनडे मैचों में 52 विकेट लिए।…Next

 

 

Read More:

IPL में इन 5 खिलाड़ियों ने ठोके हैं सबसे ज्‍यादा अर्धशतक, टॉप पर ये खिलाड़ी

5 भारतीय क्रिकेटर, जो सिर्फ एक ODI खेलने के बाद नहीं कर पाए टीम में वापसी

वो 5 मौके, जब भारतीय क्रिकेटरों की बातों से फैंस हुए इमोशनल!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग