blogid : 7002 postid : 1391605

एक ओवर में चार छक्के लगा चुके हैं जहीर खान, राजघराने से आती हैं पत्नी सागरिका

Posted On: 7 Oct, 2018 Sports में

Shilpi Singh

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

1006 Posts

126 Comments

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जहीर खान ने टीम के लिए शानदार खेल दिखाया है। जहीर ने काफी लंबा समय क्रिकेट को दिया और उन्होंने इस दौररान की सारी उपलब्धियां भी हासिल की हैं। जहीर किसी दौर में भारतीय टीम के मुख्य गेंदबाज हुआ करते थे। ऐसे में चलिए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें।

 

 

इंजीनियरिंग डिग्री हासिल करना चाहते थे जहीर

जहीर खान का जन्म एक मध्यम वर्गीय परिवार में शिरडी से 40 किमी. दूर श्रीरामपुर में हुआ था। जहीर खान के पिता फोटोग्राफर और मां टीचर थीं। जगहीर खान ने अपनी शुरुआती पढ़ाई हिंद सेवा मंडल न्यू मराठी प्राइमरी स्कूल और उसके बाद केजे सोमैया सेकेंड्री स्कूल से की थी। स्कूल खत्म होने के बाद जहीर ने मेकैनिकल इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स में दाखिला लिया। लेकिन अपने कोच की सलाह पर उन्होंने इंजीनियरिंग की जगह क्रिकेट में ज्यादा ध्यान लगाया।

 

 

पिता ने पहचाना टेलेंट

जहीर की प्रतिभा को देखते हुए 17 साल की उम्र में जहीर के पिता उन्हें मुंबई ले आए। हमेशा अनुशासन में रहने वाले जहीर खान ने नेशनल क्रिकेट क्लब के शुरुआती 2 सत्रों के हर मुकाबलों में भाग लिया। शिवाजी पार्क जिमखाना के खिलाफ फाइनल में लिए गए 7 विकेटों ने जहीर खान को सुर्खियों में ला दिया। जिसके बाद जहीर खान को मुंबई और वेस्ट जोन की अंडर-19 टीम में चुन लिया गया। इसके बाद जहीर खान को एमआरएफ पेस फाउंडेशन में कोचिंग मिली जहां कोच डेनिल लिली ने कहा ये लड़का एक दिन भारत के लिए गेंदबाजी करेगा।

 

 

ऐसा था शुरूआती सफर

जहीर खान ने प्रथम श्रेणी का आगाज 1999-2000 में मुंबई की टीम में जगह न मिल पाने के कारण बड़ौदा की तरफ से किया था। 2006 के बाद जहीर खान मुंबई की तरफ से घरेलू क्रिकेट खेलने लगे। घरेलू क्रिकेट में अपने शानदार खेल की बदौलत वो जल्द ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने में सफल रहे। जहीर खान को नैरोबी में खेली गई आईसीसी नॉक आउट ट्रॉफी में खेलने का मौका मिला और उन्होंने उसे जबर्दस्त तरीके से भुनाया।

 

 

साल 2008 से लेकर 2012 का दौर

जहीर के करियर में चोट हमेशा सिरर्दद साबित रही, 2008 से लेकर 2012 तक चोट के कारण जहीर खान भारतीय टीम में अस्थाई रहे खासकर एकदिवसीय मुकाबलों में। इस दौरान टेस्ट में वो एक ही बार 10 विकेट ले सके वो भी साल 2010 में बांग्लादेश के खिलाफ। दिसंबर 2013 में जहीर खान 300 विकेट लेने वाले दूसरे भारतीय तेज गेंदबाज बने।

 

 

लगाए थे चार छक्के

अपनी गेंदबाजी से सुर्खियां बटोरने वाले जहीर खान की बल्लेबाजी का नंबर ज्यादातर मैचों में आता ही नहीं था। मगर गेंदबाजी करने वाले जहीर ने बल्लेबाजी में एक बार ऐसा करिश्मा कर दिखाया, जो शायद हर बल्लेबाज करने की चाहत रखता हो। जहीर खान ने एक मैच में बल्‍लेबाजी करते हुए चार गेंदों पर लगातार चार छक्के लगाकर सभी को हैरान कर दिया था। जहीर की यह पारी यादगार पारियों में गिनी जाती है।

 

 

ऐसा रहा है करियर

जहीर खान अब तक 610 अंतरराष्ट्रीय विकेट ले चुके हैं। जहीर ने टेस्ट में 311 विकेट, एकदिवसीय मुकाबलों में 282 और टी-20 में 17 विकेट लिए हैं। जहीर खान के नाम प्रथम श्रेणी मैचों में 652 विकेट हैं। लिस्ट ए करियर में उनके नाम 357 और घरेलू टी-20 मुकाबलों में 119 विकेट हासिल किए हैं।

 

 

बॉलीवुड एक्ट्रेस ईशा शरवानी पर आया था जहीर का दिल

जहीर खान का दिल भी बॉलीवुड की अभिनेत्रियों पर फिदा हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जहीर खान बॉलीवुड एक्ट्रेस ईशा शरवानी को डेट कर चुके हैं, दोनों का रिश्ता करीब 8 सालों तक चला। ईशा ने Kisna: The Warrior Poet फिल्म में डेब्यू किया था।

 

 

 

राजघरान से आती हैं जहीर की पत्नी

 

 

सागरिका की दादी सीता राजे घटगे इंदौर के महाराजा तुकोजीराव होल्कर तृतीय की बेटी थीं। सागरिका का जन्म 1986 में कोल्हापुर में हुआ था। सागरिका ने मुंबई के एचआर कॉलेज से अपनी पढ़ाई पूरी की थी। सागरिका के पिता नहीं चाहते थे कि वो फिल्मों में काम करें, सागरिका ने बॉलीवुड समेत कई फिल्मों में काम किया है।..Next

 

Read More:

रोहित और धवन ने तोड़ा सचिन-सहवाग का ये रिकॉर्ड, धवन का नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज

क्रिकेट मैदान के बाहर हिंदी कमेंटरी से चौके छक्के लगा रहे हैं ये 5 भारतीय क्रिकेटर

Injury या बीमारी के बाद और खतरनाक हो गए ये खिलाड़ी, धाकड़ थी वापसी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग