blogid : 7002 postid : 1372639

वॉचमैन का बेटा बन गया ‘सर जडेजा’, मां की मौत के बाद नहीं खेलना चाहते थे क्रिकेट

Posted On: 6 Dec, 2017 Sports में

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

835 Posts

126 Comments

जडेजा का जन्म 6 दिसंबर 1988 को सौराष्ट्र में हुआ था, आज भले ही रवींद्र जडेजा एक आलीशान जिंदगी जी रहे हों पर एक समय ऐसा था जब उनका परिवार बहुत गरीब था। जडेजा के पिता अनिरूद्ध सिहं एक सिक्योरिटी गॉर्ड थे और उनकी मां लता नर्स का काम करती थीं। जडेजा की दो बहने हैं नैना और पद्मिनी जडेजा। ऐसे में आखिर कैसे जडेजा ने इंटरनेशल स्टार बनने तक का सफर तय किया।


cover


मां की मौत के बाद क्रिकेट नहीं खेलना चाहते थे जेडजा

जडेजा कि पिता चाहते थे कि वह आर्मी स्कूल में पढ़ें और बड़े होकर एक आर्मी ऑफिसर बनें लेकिन जडेजा को क्रिकेट से दूर रख पाना काफी मुश्किल था। पिता से डरने वाले जडेजा ने अपनी मां से इस बारें में बात की और उन्होंने जडेजा क्रिकेट खेलने की इजाजत दे दी। जडेजा की मां का सपना था कि वह अपने बेटे को क्रिकेट खेलते देखें लेकिन उससे पहले ही उनका स्वर्गवास हो गया। साल 2005 में जब जडेजा की मां का देहांत हुआ तो 17 साल के जडेजा के लिए यह सदमा बर्दाश्त कर पाना मुश्किल था। जडेजा इतने ज्यादा आहत थे कि उन्होंने क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कहने का मन बना लिया था। लेकिन उस दौरान उनकी बहनों ने उनकों संभाला और जडेजा ने मां के सपनो को पूरा किया।


Ravindra Jadeja


फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में लगाया तीहरा शतक

2006-07 में रवींद्र जडेजा ने फर्स्‍ट क्‍लास डेब्‍यू किया। दलीप ट्रॉफी में वेस्‍ट जोन की तरफ से और रणजी ट्रॉफी में सौराष्‍ट्र की तरफ से खेलने लगे। उनका टैलेंट राष्‍ट्रीय स्‍तर पर सुर्खियां तब बना जब वह फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में तीन तिहरे शतक (300 रन से ज्‍यादा) लगाने वाले पहले भारतीय बन गए।


Untitled


दो अंडर-19 विश्व कप खेला है

यह शायद बहुत कम लोग जानते हैं कि जडेजा ने अपने करियर में दो अंडर-19 विश्व कप खेल हैं। 2006 में खेले गए अंडर-19 विश्व कप में भारत फाइनल तक पहुंचा था लेकिन निर्णायक मैच में पाकिस्तान ने जीत हासिल की थी। वहीं 2008 में विराट कोहली की कप्तानी में साउथ अफ्रीका के खिलाफ जीतकर भारत ने अंडर-19 विश्व कप पर कब्जा किया था। रवींद्र जडेजा भी इस टीम का हिस्सा थे, उन्होंने इस मैच में 11 रन बनाकर दो विकेट भी लिए थे।


jadu


कई बार टीम से हुए बाहर

2009 में जडेजा को टीम इंडिया में मौका मिला, इसके बाद 2012 में इंग्लैंड के खिलाफ नागपुर टेस्ट में डेब्यू किया था। खराब दौर के चलते एक ऐसा भी दौर आया था जब जडेजा को टीम से खराब प्रदर्शन के चलते करीब 14 महीने टीम से बाहर रहना पड़ा लेकिन घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने के बाद उन्होंने टीम इंडिया में वापसी की।


jadeja-


एक बेटी हैं पिता जडेजा

जहां कई भारतीय क्रिकेटर्स ने लव मैरिज की है वहीं जडेजा ने अपने परिवार की पसंद की लड़की से शादी की। 17 अप्रैल 2016 में जडेजा ने रीवा सोलंकी के साथ शादी की थी। जडेजा की शादी पूरे राजपूत रीति रिवाज से हुई थी, जडेजा एक बेटी के पिता भी हैं।


jadu daughter


फॉर्म हाउस और जड्डूस फूड फील्ड रेस्ट्रोंट के मालिक हैं

जामनगर में जडेजा का एक फॉर्म हाउस हैं जहां वह अक्सर इन घोड़ों के साथ समय बिताते हैं।  खाने के शौकीन जड्डू ने राजकोट में एक शानदार रेस्ट्रोंट भी खरीदा है जिसका नाम है ‘ जड्डूस फूड फील्ड’। जडेजा समय निकाल कर कभी-कभी यहां आते हैं। जडेजा के इस रेस्ट्रोंट का उद्घाटन 12 दिसंबर 2012 को हुआ था।


jadu farm


कैसे मिली जडेजा को सर की उपाधी

सर की उपाधी जडेजा को बेहद खास वजह से दी गई थी, सभी जानते हैं कि जडेजा न केवल एक शानदार गेंदबाज हैं बल्कि एक गजब के फिल्डर भी हैं। सर की उपाधी जडेजा को भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दी थी, इसकी वजह है उनकी कमाल की गेंदबाजी,बल्लेबाजी और फील्डिंग जिसका कायल हर कोई है। हालांकि यह उपाधि उन्हें मजाक में दी गई।…Next



Read More:

ये 5 बल्लेबाज हर तरफ खेल सकते हैं शॉट, जानें क्यों खास हैं ये खिलाड़ी

क्रिकेटर नहीं कुछ और बनना चाहती थीं मिताली, आज हैं इतने करोड़ की मालकिन

जब गेंद लगने से भारत के इस कप्‍तान का टूटा दांत, उठाकर जेब में रखा और ठोक दिया अर्धशतक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग