blogid : 7002 postid : 1375995

युजवेंद्र ने इतने साल तक की है खेत में प्रैक्टिस, आज हैं टीम इंडिया के स्‍टार गेंदबाज

Posted On: 21 Dec, 2017 Sports में

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

804 Posts

126 Comments

कहते हैं कि कुछ करने का जज्‍बा हो, तो सुविधाओं के अभाव में भी आगे बढ़ा जा सकता है। सफलता इतनी आसानी से नहीं मिलती। उसके लिए कड़ी मेहनत के साथ-साथ न जानें कितने त्‍याग करने पड़ते हैं। हमें आमतौर पर लोगों की सफलता दिखती है, लेकिन उसके पीछे उनके संघर्ष से अनजान रहते हैं। कुछ ऐसा ही टीम इंडिया के नए स्‍टार गेंदबाज युजवेंद्र चहल के साथ है। आज टीम में अपनी चमक बिखेरते इस सितारे ने भी यहां तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत की है। आइये आपको बताते हैं युजवेंद्र की एक ऐसी ही कहानी के बारे में, जिसे जानकर आपके मन में उनके लिए सम्‍मान बढ़ जाएगा।


yuzvendra chahal


चहल की जमकर हो रही तारीफ


yuzvendra chahal1


20 दिसंबर 2017 को पहले टी-20 मैच में श्रीलंका को 93 रन से शिकस्त देने के बाद भारतीय टीम के युजवेंद्र चहल की जमकर तारीफ हो रही है। चहल ने इस मैच में 4 विकेट लेकर श्रीलंका की टीम की कमर तोड़ दी। आपको जानकर हैरानी होगी कि अपनी शानदार गेंदबाजी के लिए तारीफ पाने वाले हरियाणा के जींद निवासी युजवेंद्र का पढ़ाई में मन नहीं लगता था। इस बात का खुलासा उनकी मां ने ही किया है। उनकी मां कहती हैं कि युजवेंद्र का पढ़ाई में मन नहीं लगता था। उसने क्रिकेट खेलने की इच्छा जताई, तो हमने उसका पूरा साथ दिया।


7 साल तक खेत में किया प्रैक्टिस


CHAHAL


चहल के क्रिकेट खेलने की शुरुआत काफी दिलचस्‍प है। युजवेंद्र के पिता केके चहल बताते हैं कि जब उसने क्रिकेट खेलने की इच्‍छा जाहिर की, तो हमने भी उसकी इच्‍छा पूरी करने के लिए उसका साथ दिया। 2004 में मैंने युजवेंद्र के लिए डेढ़ एकड़ खेत में पिच तैयार करवाई। उसी में उसने प्रैक्टिस शुरू की। 2011 तक युजवेंद्र ने खेत में ही प्रैक्टिस की। इसके बाद जब अंडर-19 मे उसका चयन हुआ, तब हमें लगा कि अब हम सबका सपना पूरा हो जाएगा। इसके बाद रणजी ट्रॉफी, आईपीएल और फिर भारतीय क्रिकेट टीम में उसका चयन हुआ।


लहसुन की चटनी के दीवाने हैं युजवेंद्र


yuzvendra chahal3


चहल घर में सबसे छोटे हैं और उनकी दो बड़ी बहनें हैं। युजवेंद्र की मां बताती हैं कि उनके बेटे को राजमा-चावल और लहसुन की चटनी बहुत पसंद है। खाने में वह दोनों समय लहसुन की चटनी जरूर खाता है। युजवेंद्र दूध पीने से भी कभी मना नहीं करते। चहल की मां का कहना है कि वह पहले अंडा तक नहीं खाता था, लेकिन कोच ने मसल्स प्रॉब्लम बताकर नॉनवेज खिलाना शुरू कर दिया। अब अपने खेल के लिए वह ये सब खाता है…Next


Read More:

युवराज को याद आई अपनी धमाकेदार पारी, इस तरह शेयर की फीलिंग
T-20, वनडे और टेस्ट में धोनी समेत ये हैं दुनिया के 5 सबसे सफल कप्तान
सलमान खान और शिल्‍पा शेट्टी के खिलाफ FIR! जानें क्‍या है मामला


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग