blogid : 7002 postid : 697230

क्रिकेट का स्माइलिंग प्रिंस

Posted On: 1 Feb, 2014 Sports में

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

898 Posts

126 Comments

1999-2000 का वर्ष क्रिकेट इतिहास के लिए एक काला अध्याय है. इस वर्ष मैच फिक्सिंग के खुलासे ने विश्व क्रिकेट को हिलाकर रख दिया था. फिक्सिंग में कई खिलाड़ियों का नाम सामने आया जिसमें भारतीय खिलाड़ी भी थे. इस मामले में जिस खिलाड़ी को लेकर सबसे ज्यादा हैरानी हुई वह भारतीय क्रिकेट के स्मालिंग प्रिंस अजय जड़ेजा थे.


ajay jadeja 1अजय जड़ेजा टीम के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो मैच के हर परिस्थितियों में न तो घबाराते थे और न ही किसी गेंदबाज से ड़रते थे. टीम चाहे जितनी भी दबाव में हो उनके चेहरे पर किसी भी तरह का कोई तनाव नहीं होता था. वह जव भी मैदान पर होते सदा उनके चेहरे पर मुस्कान ही होती थी. जिस दौर में अजय जड़ेजा पर फिक्सिंग का आरोप लगा उस दौर में वह क्रिकेट के एक बेहतरीन खिलाड़ी थे. वह ना केवल एक बेहतर बल्लेबाज थे बल्कि क्षेत्ररक्षण में भी एक अच्छे खिलाड़ी माने जाते रहे हैं.


मैच फिक्सिंग के चलते जड़ेजा पर लगे पांच वर्ष के प्रतिबंध को 2003 में अदालत ने खत्म कर उन्हें घरेलू क्रिकेट में खेलने की छूट दे दी थी. अदालत से राहत मिलने के बाद जड़ेजा घरेलू मैच तो खेले लेकिन राष्ट्रीय टीम के लिए उनके लिए दरवाजे बंद हो गए थे.



Read: कितना जायज है यह सौदा !!


जड़ेजा से जुड़ी कुछ और बातें:

  1. 1 फरवरी 1971 को गुजरात के जामनगर में जन्में अजय जड़ेजा सौराष्ट के शाही परिवार से हैं.
  2. जड़ेजा का नाम एक प्रसिद्ध क्रिकेट परिवार से भी जुड़ा हुआ है. वह भारत के महान क्रिकेटर के. एस रंजीत K. S. Ranjitsinhji.
  3. मिडल ऑर्डर में बैंटिग करने वाले जड़ेजा 1992 से 2000 तक भारतीय क्रिकेट टीम के नियमित खिलाड़ी रहे हैं. उन्होंने 15 टेस्ट मैच और 196 एकदिवसीय मैच खेले हैं.
  4. जड़ेजा ने टेस्ट में 576 रन जबकि वनडे में 5359 रन बनाए हैं.
  5. उन्होंने फिल्मों में भी काम किया है- खेल (2003), पल पल दिल के साथ (2009

Read more:

इस जीत पर फिक्सिंग का दाग तो लगना ही था !

फिर जाग गया है मैच फिक्सिंग का भूत

सट्टेबाजी को कानूनी मान्यता ! क्या होगा रामा रे……….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग