blogid : 7002 postid : 856290

विश्व कप में खेल रहे एक क्रिकेट खिलाड़ी ने डाला भारत के इस गाँव को दुविधा में

Posted On: 25 Feb, 2015 Sports में

क्रिकेट की दुनियाक्रिकेट की हर हलचल पर गहरी नजर के साथ उसके विविध पक्षों को उकेरता ब्लॉग

Cricket

833 Posts

126 Comments

एक खिलाड़ी भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने के लिए मेहनत करता है लेकिन सफलता न मिलने की वजह से वह देश छोड़ देता है और अपने शौक़ को पूरा करने की कोशिश में लग जाता है. फिर बड़े अंतराल के बाद वो समय आता है जब वह उसी टीम के विरूद्ध खेलने आता है जिसमें शामिल न हो पाने का मलाल उसे देश छोड़ने पर विवश करता है. पढ़िये अपनी ज़मीं पर अपनी उम्मीदों को मरते और फिर विदेशी ज़मीं से अपने शौक़ को पंख देते एक क्रिकेटर की कहानी….


village


वह दिन वसाई के इस गाँव के लोगों के लिए ख़ास पर दुविधा भरा रहने वाला है जिस दिन विश्व कप क्रिकेट में भारतीय खिलाड़ियों का सामना संयुक्त अरब अमीरात के खिलाड़ियों से होगा. यह मैच वसाई के दरपाले गाँव के लोगों के लिए ख़ास इसलिए होगी क्योंकि उनके बीच का एक खिलाड़ी उस दिन विश्व कप क्रिकेट खेलेगा. लेकिन उनके लिए यह स्थिति दुविधाओं से भरी इसलिए है क्योंकि वह खिलाड़ी भारतीय पाले में नहीं बल्कि संयुक्त अरब अमीरात के खेमें में शामिल है.


patil



Read: कभी बल्लेबाजों के छक्के छुड़ाने वाला यह क्रिकेटर आज है बॉडी बिल्डिंग चैंपियन


संयुक्त अरब अमीरात की ओर से भारतीय खिलाड़ियों के विरूद्ध खेलने जा रहे इस खिलाड़ी का नाम स्वप्निल पाटिल है. विलास गोडबोले के निर्देशन में डॉक्टर एच डी खन्ना क्रिकेट लीग खेलने वाले स्वप्निल ने एम आई जी क्रिकेट क्लब और दिलीप वेंगसरकर एकेडमी की तरफ से अंडर-14 वज़ीफ़ा जीतकर मुंबई की अंडर-19 और अंडर-22 के टूर्नामेंट और रणजी ट्रॉफी के सम्भावितों की तरफ से मैच खेला था.



patill



विकेटकीपर बल्लेबाज स्वप्निल पाटिल के युवा-मन की हसरत यही थी कि भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों की सूची में उसका नाम हो. लेकिन मुंबई रणजी खिलाड़ियों की सूची में भी अपना नाम न पाकर उसे मयूसी हुई. वर्ष 2006 में उसकी मायूसी तब खत्म हुई जब दुबई की एक कंपनी ने उसे ‘योगी क्रिकेट क्लब’ की ओर से खेलने का प्रस्ताव दिया. स्वप्निल ने अपनी मायूसी पर विजय पाने के लिए दुबई का रास्ता अख़्तियार किया.


Read: विदेशी जमीन पर हारे हुए खिलाड़ी कैसे जीतेंगे विश्वकप



स्वप्निल ने चार वर्षों तक क्लब क्रिकेट खेला और वर्ष 2010 में संयुक्त अरब अमीरात की तरफ से प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपनी पारी का आगाज़ किया. अपनी टीम संयुक्त अरब अमीरात के लिए विकेटकीपिंग करने वाला यह बल्लेबाज जब शनिवार को मैदान पर भारतीय टीम के विरूद्ध उतरेगा तो गाँव के लोग उसके उम्दा प्रदर्शन और अंतत: भारतीय टीम की विजय की कामना के साथ मैच देखेंगे. Next…



Read more:

क्रिकेट से जुड़े ये फैक्ट्स आपने सुने नहीं होंगे

जान डाल देते हैं क्रिस गेल

धोनी ऐसे ही नहीं बने क्रिकेट के धुरंधर



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग