blogid : 7831 postid : 31

मेरा इख़्तियार नहीं

Posted On: 16 Jan, 2012 Others में

मुझे याद आते हैJust another weblog

D33P

48 Posts

1061 Comments

तेरी तन्हाइयो के काबिल मै नहीं
तेरी सोच और जज्बातों से गाफिल मै नहीं
तु मुझे चाहे या न चाहे ,पर मुझसे तु अंजान नहीं

आज भी मेरी तन्हाई तुम्हे बुलाती है
तु आये या ना आये इस पर मेरा इख़्तियार नहीं

रात के आगोश में चमकता चाँद है
उसमे तेरा अक्स है इससे मुझे इंकार नहीं

राहे वफ़ा में मुसाफिर बहुत मिले पर
तू कुछ उनसे जुदा सा लगा इससे मुझे इंकार नहीं

आहट घुलती है इन सर्द रातो में जब तेरी
मेरी रग रग में घुल जाती है क़यामत
क़यामत की ख़ामोशी में ठहरने से मुझे इंकार नहीं

सनसनाती तेरी आवाज़ मेरे दिल में उतर जाती है
तुझे दिल में उतार लू इस पर मेरा इख़्तियार नहीं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग