blogid : 5086 postid : 115

बारिश की खुशी

Posted On: 24 Jul, 2012 Others में

नए कदमहार्दिक स्वागत

dalveermarwah

40 Posts

49 Comments

कल रात हवा के थपेड़ों ने नींद से मुझे जगा दिया
मुझे अहसास हुआ की मूसलाधार बारिश हो रही है
शायद देर रात का समय था इसलिए कोई और आवाज़ नहीं थी
बस पानी था और उसकी बनाई हुई नहरें की आवाज़ थी

अभी भी मैं बिस्तर पर एक करवट ही लेटा था
आवाज़ मूसलाधार गिरते पानी की नींद को भागा रही थी
खयाल आया की काल रात भी शायद ऐसी ही बारिश हुई होगी
मेरी प्यारी गाड़ी जमे पानी से गंदी हो गयी थी

कल फिर से गाड़ी प्यारी गंदी हो जाएगी
यह सोच सोच कर और भी नींद नहीं आ रही थी
अक्सर पानी का न आना दुख देता है और आना भी दुख
पर मुझे कहीं न कहीं खुशी भी थी

इस साल बारिश का बहुत इंतज़ार किया था
पानी की कमी हर वर्ग को रुला रही थी
एक के बात एक मौसम विभाग की गलत भविष्यवाणी
और सरकार की नाकामी कर रोज खबर बना रही थी

पानी की ताड़ ताड़ ने कुछ राहत तो पहुंचाई होगी
चाहे इस पानी से मेरी प्यारी गाड़ी गंदी होने वाली थी
बाजू वाले कमरे से चर मर की आवाज़ सी आयी
मेरी वृद्ध मम्मी भी शायद उठ गयी थी

उनको सोने के लिए दवाई लेनी पड़ती है
कुछ 5-6 साल पहले उनको मानसिक बीमारी हुई थी
अब कभी कभी उनको में कुछ खोया खोया पता हुईं
पहले वो बहुत की ज्यादा असंतुलित रहती थी

मेने उठकर देखा की वो कुर्सी पर बैठीं थी
और अपनी कमरे की खिड़की से बारिश होती देख रही थी
उन्होने बताया था की बारिश की गिरती बूंदे उनको प्रेरित करती थी
वो फिर अपने गीले मन की स्याही से पन्ने पर चित्र उकेरा करती थी

आज भी बारिश को निहारती वो उतनी ही मासूम लगती है
लगता है, जैसे वो अभी उठेंगी और कोरे कागज़ पर शब्द सजाएगी
दवाइयों ने उन्हे निष्क्रिय सा कर दिया है, सोच से
पर आशा करता हूँ की मेरी कविता वो शायद समझ पाएँगी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग