blogid : 3738 postid : 3827

विश्व शरणार्थी दिवस: दर-दर की ठोकरें खाना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है

Posted On: 19 Jun, 2013 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

वह लोग बहुत ही भाग्यशाली हैं जिनके पास अपनी एक पहचान है, जो देश के निवासी हैं और जिन्हें मुख्यधारा में शामिल करके शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार की सुविधा दी जा रही है. सबसे अहम बात तो उन्हें राजनीतिक अधिकार प्राप्त है लेकिन आपने कभी यह सोचा है कि अगर किसी व्यक्ति को यह सुविधा और अधिकार न मिले तो उसका जीवन कैसा होगा.


refugeeआज विश्व में ऐसे कई लोग हैं जो पिछली कई पीढ़ियों से विस्थापित होने की मार झेल रहे हैं जिन्हें आज तक पुनर्वास नहीं मिल पाया है. पिछले साल संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि दुनिया भर में चार करोड़ से भी अधिक शरणार्थी (Refugee) अनिश्चित भविष्य के साथ जी रहे हैं जिनकी संख्या लगातार बढ़ रही है. रिपोर्ट की मानें तो शरणार्थियों के पुनर्स्थापन के लिए जो कोशिशें हो रही हैं वो नाकाफी हैं.


Read: सट्टेबाजी क्रिकेट से मिटाएगा ‘भ्रष्टाचार’ !


जिन कारणों से शरणार्थियों की संख्या बढ़ रही है उनमें युद्ध, प्राकृतिक आपदा और जलवायु परिवर्तन शामिल हैं. लगातार हो रहे युद्ध, प्राकृतिक आपदा की वजह से आज मानव अस्थाई रूप से रहने के लिए विवश हो रहा है तथा अपना जीवनयापन करने के लिए मजदूरी कर रहा है. कहने को तो इनके राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार बने हुए हैं लेकिन इनकी कोई सुनवाई नहीं है. सरकार और राजनीतिक पार्टियों से लेकर आम लोगों तक कोई इनकी बातें सुनने के लिए तैयार ही नहीं है.


Read: कुदरत के तांडव के लिए कौन है जिम्मेदार


संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक शरणार्थियों की स्थिति एक अंतरराष्ट्रीय चुनौती बनती जा रही है जिसके समाधान के लिए वैश्विक स्तर पर ही काम किए जाने की जरूरत है. संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी (Refugee) एजेंसी चाहती है कि दुनिया के सभी देश विस्थापितों को सुरक्षा देने की दिशा में गंभीरता के साथ काम करें.


संयुक्त राष्ट्र ने इस विषय की गंभीरता को समझते हुए हर वर्ष 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस (World Refugee Day) मनाने का निर्णय किया. 04 दिसम्बर, 2000 को यह घोषणा की गई जिसे 20 जून, 2001 से लागू कर दिया गया. इस दिन को मनाने का मुख्य कारण लोगों में जागरुकता फैलानी है कि कोई भी इंसान “अमान्य” नहीं होता फिर चाहे वह किसी भी देश का हो. एकता और समन्वय की भावना रखते हुए हमें सभी को मान्यता देनी चाहिए. संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूएनएचसीआर शरणार्थी लोगों की सहायता करती है.


Read More:

विश्व शरणार्थी दिवस


Tags: world refugee day, world refugee day in hindi, world refugee day 2013, United Nations, refugee, विस्थापित, विश्व शरणार्थी दिवस, संयुक्त राष्ट्र, प्राकृतिक आपदा, अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग