blogid : 3738 postid : 866

सुजीत कुमार - जन्मदिन विशेषांक [Birthday Special]

Posted On: 26 Jun, 2011 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

sujit kumarसत्तर के दशक में राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) की कई सफल फिल्मों में महत्वपूर्ण सहायक अभिनेता (Supporting Actor) की भूमिका निभाने वाले सुजीत कुमार (Sujit Kumar) के अभिनय का जलवा भोजपुरी फिल्मों ( Bhojpuri Movies) में कुछ इस कदर बिखरा की उन्हें भोजपुरी फिल्मों का पहला सुपरस्टार ही कहा जाने लगा. उनकी फिल्में भारत में ही नहीं मॉरीशस (Mauritius) , गुयाना(Guyana) , फिजी (Fiji) , सुरीनाम (Surinam) आदि देशों में भी काफी लोकप्रिय रहीं. बतौर चरित्र अभिनेता भी सुजीत कुमार हिंदी फिल्मों में काफी सफल रहे. राजेश खन्ना अभिनीत फिल्म “आराधना” (Aradhana movie) में सुजीत कुमार की अदाकारी को आज भी लोग याद करते हैं.


हिन्दी फिल्म इण्डस्ट्री (Film Industry) में उन्हें पहला ब्रेक किशोर कुमार (Kishore Kumar)  ने दिया. ‘दूर गगन की छांव में’ उनकी पहली बॉलिवुड फिल्म (Bollywood Movie) थी. लेकिन सुजीत कुमार की आत्मा केवल भोजपुरी फिल्मों में ही बसती थी. ‘बिदेसीया’` भोजपुरी भाषा की सुपर हिट फिल्म है, जिसमे सुजीत कुमार ने ही अभिनय किया था. इस फिल्म में उनके बेजोड़ अभिनय ने उन्हें भोजपुरी फिल्म जगत में भी लोकप्रिय बना दिया. अभिनय के साथ-साथ उन्होंने फिल्म निर्देशन (Film Direction) के क्षेत्र में भी अपने हाथ आजमाए. 1983 में आई भोजपुरी फिल्म ‘पान खाए सैयां हमार’ जिसमें अमिताभ बच्चन और रेखा अतिथि भूमिका में नजर आए थे, सुजीत कुमार निर्देशित पहली फिल्म थी. इसके बाद उन्होंने कई हिन्दी फिल्मों का भी निर्माण किया. उनकी कुछ प्रमुख बॉलिवुड फिल्में अनिल कपूर (Anil Kapoor)  की खेल, सनी देओल (Sunny Deol) की चैंपियन और एतबार आदि हैं. ‘आराधना’,  ‘द बर्निंग ट्रेन’ और ‘आँखें’ जैसी फिल्मों में अभिनय करने वाले फिल्म अभिनेता सुजीत कुमार आज भले ही हमारे बीच नहीं रहे, लेकिन फिल्मी क्षेत्र में, खासतौर पर भोजपुरी फिल्मों के इतिहास में वह अपना नाम सुनहरे अक्षरों में दर्ज करा चुके हैं. आज भी लोग उन्हें एक बेहतरीन अभिनेता के रूप में याद करते हैं.


सुजीत कुमार की कुछ महत्वपूर्ण फिल्में

गुस्ताखी माफ-1969, बिदेसीया (भोजपुरी) -1969, आराधना-1968, अमर प्रेम-1971, द बर्निंग ट्रैन-1980, कैदी-1984, यादगार-1984, आखिर क्यों- 1985 आदि.


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग